VARANASI: अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई : DM

0
74

वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देशानुसार जनपद में शांति एवं कानून व्यवस्था को कायम रखने के उद्देश्य से जनपद के सभी मजिस्ट्रेट एवं पुलिस अधिकारी गुरुवार को चक्रमण करते रहें। जिलाधिकारी स्वयं एसएसपी प्रभाकर चौधरी के साथ लहुराबीर से गोदौलिया तक भारी सुरक्षा बलों के साथ फ्लैग मार्च करते रहें। इस दौरान बेनियाबाग एवं नई सड़क क्षेत्र की कुछ दुकानों को कतिपय लोगों द्वारा बंद कराए जाने की जानकारी पर अधिकारीद्वय ने लोगों से अपनी-अपनी दुकानें खोलने की भी अपील की।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि जनपद में किसी को जुलूस, धरना, प्रदर्शन जैसी कार्यक्रम का कोई अनुमति नहीं है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि ऐसे किसी बहकावे में न आयें और न ही ऐसे किसी कार्यक्रम में सम्मिलित हों। जनपद में धारा 144 लागू है, एक स्थान पर किसी को भी एक़त्र होने की अनुमति नहीं है। इसके उल्लंघन पर आईपीसी की धारा के अंतर्गत दोषियों के विरूद्व कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि संज्ञान में आया है कि कुछ लोग छात्रों को गुमराह कर जनपद की शांति व्यवस्था प्रभावित करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने विश्वविद्यालय, हास्टल, मदरसा आदि के छात्र-छात्राओं से विशेष अपील की है कि कोई गुमराह करता है तो उसके बहकावे में नहीं आएं और अपने पढ़ाई पर ध्यान दें। यदि कोई छात्र शान्ति व्यवस्था प्रभावित करने के प्रयास में संलिप्त पाया जाता है, तो इसे गंभीरता से लेते हुए उसके विरूद्ध मुकदमा दर्ज करने से भी परहेज नहीं किया जायेगा।

इतना ही नहीं शुक्रवार को जुम्मे की नमाज के बाद धार्मिक भावना से लोगों को लक्ष्य बनाकर दुरूपयोग एवं राजनैतिक उददेश्य से भाषण, नारेबाजी एवं पम्पलेट वितरण आदि का क्रिया कलाप आदि करता है, तो इसे गंभीरता से लिया जायेगा। जिलाधिकारी ने सभी मस्जिद के इमाम से अपील की है कि वे अपने धार्मिक परिसर का इस्तेमाल लोगों को राजनैतिक एवं अन्य क्रिया कलापों के लिए कतई उपयोग न होने दें।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने मजिस्ट्रेटों को निर्देशित किया कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में बराबर चक्रमण करते रहें तथा किसी भी दशा में किसी भी स्थान पर लोगों को एकत्र न होने दें। उन्होंने कहा कि जनपद में लागू धारा 144 का उल्लंघन करते हुए यदि कोई पाया जाता है तो ऐसे लोगों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही किया जाये। उन्होंने मजिस्ट्रेटों को सोशल मीडिया एवं व्हाट्सप पर प्रसारित होने वाले मैसेज आदि पर भी विशेष निगरानी करने का निर्देश दिया हैं।