नम आंखों से दी गई सेना के जवान विनोद राजभर को अंतिम विदाई

0
16

रिपोर्ट- राहुल पांडेय

गाजीपुर। जनपद के लाल औऱ सेना के जवान विनोद राजभर लद्दाख में तैनात थे, जो ड्यूटी के दौरान 18 नवंबर को बर्फ में दबकर गंभीर रुप से घायल हो गए थे। उनका इलाज चंडीगढ़ के एक निजी अस्पताल में चल रहा था। इलाज के दौरान शनिवार को उनकी मौत हो गई थी, जिनका पार्थिव शरीर जब गृह जनपद पहुंचा तो सभी की आंखे नम हो गई।

बता दें कि विनोद राजभर भवरहां (दुदवापार) गांव के निवासी थे। विनोद लद्दाख में तैनात थे। ड्यूटी के दौरान बीते 18 नवंबर को बर्फ में दबकर घायल हो गए थे। वहीं शनिवार को जवान की उपचार के दौरान मौत हो गई, जिनका पार्थिव शरीर रविवार को गृह जनपद पहुंचा, तो गांव वालो का हुजूम लग गया। वहीं रमाशंकर राजभर पूर्व राज्य मंत्री का कहना है कि जवान को शहीद का दर्जा नहीं दिया गया है, मुझे इस बात से बहुत हैरानी हो रही है। सेना की टुकड़ियां शहीद को अंतिम विदाई देने नहीं आयी, जिसकी हन घोर निंदा करते है।

शहीद का सोमवार को अंतिम आंखो से विदाई दी गई। इस दौरान हजारों का हुजूम लगा रहा। इस मौके पर जिले के विधायक ने शहीद को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि यूपी सरकार द्वारा गांव में शहीद के नाम से गेट और गांव की सड़क का नामकरण किया जाएगा।