वाराणसी। कोरोना के प्रकोप से बचने के लिए लोग हर संभव कोशिश कर रहे हैं, वहीं पीएम मोदी ने अपने मन की बात में काढ़ा पीने का जिक्र किया है। इसी कड़ी में वाराणसी के विजय कुमार ने आयुर्वेदिक काढ़ा बनाया और उसे तीन महीने लगातार हॉटस्पॉट जोन, बफर जोन और शहर के लगभग सभी थानों में फ्री ऑफ कॉस्ट बांटा। विजय बताते हैं कि दशाश्वमेध थाने के एसएचओ सिद्धार्थ मिश्रा के सहयोग के द्वारा ही उन्होंने कोविड19 के हॉटस्पॉट इलाकों में जाकर लोगों तक इस आयुर्वेदिक काढ़े को पहुंचाया है। ताकि इस काढ़े के सेवन से लोगों की इम्यून पावर बढ़े और लोग स्वस्थ रहें।

बता दें कि विजय ने अपने आयुर्वेदिक काढ़े में 15 मसालों जिसमें तुलसी, अश्वगंधा,मुलेठी,गिलोय  , दालचीनी, लौंग,काली मिर्च,छोटी इलाइची,सौंठ पाउडर, काला मुनक्का, तेज पत्ता,अजवाइन,पीपर ,गुड़ और अर्जुन का छाल को शामिल किया है। तीन महीने के बाद के वाराणसी के जंगमबाड़ी क्षेत्र में विजय ने आयुर्वेदिक काढ़े की दुकान खोली है, जो इस महामारी में मरहम का काम कर रही है। मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कोविड-19 महामारी को देखते हुए काशी की जनता से काढ़ा पीये और स्वस्थ रहने की बात कही थी,जिनकी बातों को विजय साकार करते नजर आ रहे हैं।

वहीं जब काढ़े की बिक्री पर नेशनल विजन के संवाददाता ने विजय से बात की तो उन्होंने बताया कि यह काढ़ा सभी लोगों को निशुल्क दिया जा रहा है। खास तौर पर उन लोगों को जो इस महामारी में योद्धा का काम कर रहे हैं। वैसे विजय ने अपने दुकान पर 10 रुपये का रेट बोड लगा रखा है लेकिन जिनके पास देने को पैसे नहीं हैं उनसे वो नहीं लेते वैसे ज्यादातर लोग अपनी खुशी से पैसे दे देतें हैं। सही मायने में यदि कहा जाये तो विजय समाज सेवा के साथ अपनी आजीविका का भी रास्ता इजाद कर लिए हैं।

प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत का सपना पूरा कर रहा ये बनारसी, बेच रहा आयुर्वेदिक काढ़ा
To Top