अपना प्रदेश

VARANASI: Pollution से बढ़ रही ये बीमारियां, जानें क्या कहती हैं डॉ. रितु गर्ग

वाराणसी। शहर में बढ़ रहे प्रदूषण की समस्या अब विकराल रूप लेती जा रही है। वायु प्रदूषण का ग्राफ तेजी से ऊपर की तरफ भाग रहा है। इन दिनों वाराणसी प्रदूषण के मामले में सबसे ऊपर है।डब्ल्यूएचओ यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से जारी आंकडों के मुताबिक, दुनिया के सबसे 20 प्रदूषित शहरों की सूची में भारत के 14 शहर शामिल हैं। जिसमें नई दिल्ली, ग्वालियर, वाराणसी और कानपुर उन 14 भारतीय शहरों में से एक हैं, जो दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में सबसे ऊपर हैं। यह आंकड़े इन शहरों की जहरीले वायु गुणवत्ता के आधार पर जारी किये गये हैं। इस रिपोर्ट में पीएम 10 और पीएम 2.5 के स्तर को शामिल किया गया है। बढ़ते प्रदूषण की समस्या को देखते हुए इसी कड़ी में शहर की जानी मानी चिकित्स्क ऋतु गर्ग ने नेशनल विजन की टीम से बात की। इस दौरान उन्होंने बहुत सी सावधानियों के बारे में बताया जिससे की व्यक्ति अपने आपको बीमार होने से बचा सकता है। आइये सुनते हैं उन्होंने काशी की जनता को बीमारी से बचने के लिए क्या सावधानी बरतने को कहा है।

डॉ ऋतु गर्ग ने कहा कि यदि काशी की जनता अपनी जिम्मेदारियों का अच्छे से वहन करने लगे तो अपना काशी स्वच्छ काशी और सुन्दर काशी बन जाएगी। इसके लिए लोगों में जागरूकता का होना बहुत जरुरी है तभी प्रदूषण मुक्त और बीमारीमुक्त काशी बन पायेगा। इसके लिए जरुरी है कि लोग कूड़ा कचरा सड़कों या यहां वहां नहीं डाले बल्कि ज्यादा से ज्यादा डस्टबीन का प्रयोग करें। समय- समय पर अपने वाहन के धुएं से होने वाले प्रदूषण की जांच करवाते रहें ताकि वायु में प्रदूषण ना होने पाए जिससे कि एलर्जी और स्किन की डीजीज जो तेज़ी से हो रही है उस पर कंट्रोल किया जा सके।

वहीं जल प्रदूषण की समस्या पर उन्होंने कहा कि जल प्रदूषण की वजह से आजकल टाइफाइड और जॉन्डिस के पेशेंट बहुत बढ़ गए हैं जो की एक गंभीर समस्या बनती जा रही है।  इसके लिए हमें ही अपने खानपान और साफ सफाई का पूरा ख्याल रखना होगा तभी आम जान इस बीमारी से अपने आप को बचा सकते हैं। इसके लिए जरुरी है कि अपने आस पास पूरी सफाई रखें साथ ही खाने पीने के समानों को ढक के रहें ताकि उस पर मखियाँ आदि न बैठ सकें। वहीं  पानी के प्रदूषण पर उन्होंने कहा कि गंगा में आये दिन मलिन पानी, घाटों पर कपड़ें धोना, सीवर का पानी जल प्रदूषण को बढ़ा रही है अगर हम खुद ही जागरूकता दिखते हुए अपने साइड से एहतियात बरतें तो काफी हद तक इस प्रदूषण की समस्या में कमी कर सकते हैं।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top