वाराणसी। नवागत एसएसपी वाराणसी ने अपनी जॉइनिंग के साथ ही पुलिस की कार्यप्रणाली में बदलाव लाना शुरू कर दिया है। इसकी शुरुआत उन्होंने अपने ही कार्यालय से की है। उन्होंने फरियादियों की सुविधा और बढ़ते कोरोना के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए फैसला किया है कि एक बार में केवल एक ही व्यक्ति कमरे में घुसेगा। इसके साथ ही उन्होंने यह व्यवस्था की है कि कोई फरयादी जरायम जगत से जुड़ी कोई गुप्त सूचना देना चाहता है तो, वह बिना डरे अपनी बात उनतक पहुंचा सकता है।

जिले के नए एसएसपी अमित पाठक ने अपना कार्यभार ग्रहण करने के साथ ही पुलिस की कार्यप्रणाली में बदलाव लाना शुरू कर दिया है। उन्होंने अपने दफ्तर में आने वाले फरियादियों के लिए विशेष व्यवस्था की है। पहले एक साथ सारे फरियादियों को कमरे में बैठा लिया जाता था और सबके सामने ही जनसुनवाई की जाती थी। लेकिन अगर किसी अपराधी की सूचना किसी व्यक्ति को देनी होती थी तो, वह पहचान उजागर होने के डर से नहीं दे पाता था। एसएसपी अमित पाठक द्वारा उठाये गए इस कदम को लेकर शहर भर में चर्चा है। लोगों का यह मानना है कि जरायम जगत से जुड़े अपराधियों की सूचना सीधा एसएसपी तक पहुँच जाएगी और सूचना देने वाले व्यक्ति की पहचान भी उजागर नहीं होगी।

पुलिस कप्तान की तरफ से उठाये गए इस कदम के बाद फरियादियों में भी सहजता का माहौल है। फरियादियों की मानें तो अब अपनी सीधी बात बिना किसी डर के एसएसपी को बताई जा सकती है। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के कारण कोरोना के संक्रमण का खतरा भी दुर रहेगा।

वाराणसी के नवागत SSP का यह कदम काबिले तारीफ, जानें क्या है कप्तान की नयी व्यवस्था
To Top