वाराणसी। एक तरफ जहां कोरोना का कहर जारी है तो वहीँ दूसरी तरफ बच्चों के अभिवाहकों पर स्कूल का कहर भी बदस्तूर जारी दिखाई दे रहा है। जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है ,उसी समय से सभी स्कूल अभी तक बंद चल रहे हैं। वहीं आये दिन स्कूल की तरफ से अभिवाहकों को फीस देने को लेकर मानसिक दबाव दिया जा रहा है। फीस की इस समस्या को लगातार सपा पार्टी उठा रही है इसी कड़ी में आज सपा कार्यकर्ताओं ने नो क्लास नो फीस के नारे के साथ सामनेघाट से जिला मुख्यालय तक पदयात्रा निकाला था, जिसे लंका गेट पर ही पुलिस ने रोक दिया।

बता दें कि प्राइवेट स्कूलों में लगातार फीस को लेकर स्कूल वाले जहां पहले अभिवाहकों को फोन और मैसेज के द्वारा परेशान करते थे, वहीं अब बच्चों को फीस जमा करने के लिए अपने अभिवाहकों पर जोर देने की बात कर मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे हैं। इसी को देखते हुए समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा निजी विद्यालयों में फीस माफी के लिए नो क्लास नो फीस के नारे के साथ सामनेघाट से लेकर जिला मुख्यालय तक पदयात्रा निकाला गया। जिसमें उनकी पदयात्रा को लंका चौराहे पर पहुंचते ही पुलिस प्रशासन द्वारा रोक दिया गया। लंका इस्पेक्टर द्वारा कहा गया कि आप हमें ज्ञापन सौंप दें हम ज्ञापन को जिलाधिकारी महोदय तक पहुंचाने का काम करेंगे।

कार्यकर्ताओं ने बताया कि उन्होंने अपना ज्ञापन इंस्पेक्टर को सौंप दिया और अपनी पदयात्रा को लंका चौराहे पर ही समाप्त कर दिया। उनका कहना था कि इस कार्यक्रम के माध्यम से हम लोग अभिभावकों को जागरूक करना चाहते हैं कि इस लाकडाउन में बेरोजगारी सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है ,जिसमें दो वक्त की रोटी बहुत मुश्किल से मिल रही है। ऐसे समय में फिस दे पाना बहुतों के लिए मुश्किल हो रहा है। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से मांग करते हुए कहा कि फीस माफ कर अभिवावकों को राहत पहुंचाने का काम करें।

मानवता के दुश्मन के खिलाफ सपा का अभियान, जाने क्या है पूरा मामला
To Top