कॉलेज में मूलभूत सुविधाओं को लेक छात्रों का हल्ला बोल, प्राचार्य को सौंपा सात सूत्रीय मांग पत्रक 

0
70

मऊ। यूपी के जनपद मऊ में नगर के प्रमुख डिग्री कॉलेज में छात्रों ने जमकर नारेबाजी एवं प्रदर्शन किया। इस दौरान छात्रों ने मूलभूत सुविधाओं को लेकर कालेज प्रशासन के खिलाफ नारे भी लगाए। जिले के सबसे अधिक छात्र संख्या वाले डीसीएसके पीजी कालेज में वर्षों से छात्र हित की सुविधाएं न दिए जाने को लेकर सभी छात्र धरने पर बैठ गए। कालेज प्रांगण में छात्र-छात्राओं के लिए अलग-अलग शौचालय एवं बिगड़े जनरेटर को तत्काल दुरुस्त कराने की मांग को लेकर छात्रों ने धरना दिया और प्रदर्शन किया।

बता दें कि नगर के डीसीएसके पीजी कॉलेज में लगभग 5 हजार की संख्या में छात्र-छात्राएं पढ़ने के लिए आते हैं। धरने पर बैठे छात्रनेता चंद्रविजय ने बताया कि शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं है। जनरेटर 8 सालों से बंद पड़ा है। पंखे खराब है तो वहीं कालेज में स्टडी रूम की व्यवस्था नहीं है। पुस्तकालय में पढ़ने के लिए पुस्तकों की संख्या भी बहुत कम है। पिछले कई सालों से कालेज की मूलभूत समस्याओं को लेकर ज्ञापन दिया जा रहा है बावजूद इसके कोई कार्यवाही नहीं की गई। हमारी मांग है कि इन मूल सुविधाओं को जल्द से जल्द दिया जाए। जब तक हमारी मांगे नहीं पूरी होंगी तब तक हम धरना से नहीं उठेंगे।

छात्रसंघ अध्यक्ष सुधांशु सिंह ने डीसीएसके पीजी कालेज प्रबंधन पर छात्र हितों की उपेक्षा करने का आरोप लगाया। कहा कि कालेज में छात्रों और पाठ्यक्रमों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, लेकिन छात्र हितों से जुड़ी सुविधाएं वही पुरानी और बदहाल हैं। कालेज में छात्र-छात्राओं के लिए साफ-सुथरा और सुव्यवस्थित शौचालय न होने से काफी असुविधा का सामना करना पड़ता है। वहीं, खराब जनरेटर व खराब पंखों की वजह से भी छात्रों को गर्मी से जूझना पड़ता है।

छात्र नेताओं ने कहा कि कालेज प्रबंधन और कालेज प्रशासन की ओर से एक सप्ताह अंदर उनकी मांगों पर कार्रवाई नहीं की गई तो छात्र तीव्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे, जिसकी सारी जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी। छात्र नेताओं की ओर से लाइब्रेरी से दो पुस्तकें जल्द देने, अध्ययन कक्ष की व्यवस्था करने, शीतल पेयजल की व्यवस्था करने सहित सात सूत्रीय मांगों का पत्रक प्राचार्य को सौंपा गया।