अपना प्रदेश

कोरोना अपडेटः अस्पतालों में नहीं होगी बेड की कमी, रेलवे ने कसी कमर

वाराणसी। देश में बढ़ रहे कोरोना से संक्रमित मामले ने सरकार के लिए मुसीबत खड़ा कर दिया है। हालांकि मामले की गंभीरता को समझते हुए रेलवे ने तैयारी शुरू कर दी है। आने वाले दिनों में कोरोना से संक्रमितों के इलाज के लिए रेल मंत्रालय ने ट्रेनों को आइसोलेशन वार्ड में बदलने की कवायद शुरू कर दिया है। इसके लिए वाराणसी के दो स्टेशनों पर 13 रेल के डिब्बों का चलता फिरता अस्पताल निर्मित किया गया है।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच रेलवे ने इससे निपटने की तैयारी मुकम्मल कर ली है। वाराणसी जंक्शन और मंडुवाडीह रेलवे स्टेशन पर रेल के डिब्बों को कोविड-19 अस्पताल में बदल दिया है। इसमें वो सारी सुविधाएं मौजूद हैं जो एक अस्पताल में उपलब्ध होती है। 13 डिब्बों वाली रेलवे कोच में सोशल डिस्टेन्स का भी विशेष ध्यान दिया गया है। केबिन के एक तरफ डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए स्थान बनाया गया है। वहीं दूसरी तरफ प्रसाधन की व्यवस्था की गई है।

रेल अधिकारियों का कहना है कि फिलहाल 13 डिब्बों का कोविड अस्पताल बनाया गया है। जरूरत और रेल मंत्रालय के आदेश पर इसे और बड़े पैमाने पर जरूरत के अनुसार बनाया जाएगा। देश में बढ़ रहे कोरोना संकट को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। इसकी पहल इसलिए कि गयी है कि यदि कोरोना का संकट बढ़ता है तो अस्पताल और बेड की कमी को पूरा किया जा सके।

Most Popular

To Top