वाराणसी

श्रद्धालुओं की मदद करने गए पुलिसकर्मियों को किया गया क्वारंटाइन, वाराणसी प्रशासन से लगा रहे हैं मदद की गुहार

वाराणसी। काशी में पूरे साल ही दर्शनार्थियों का तांता लगा रहता है। देश क्या विदेश से भी लोग यहां आते हैं। वहीं कुछ दर्शनार्थी कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन की वजह यहीँ फंस गए थे, जिनको सीएम योगी के दिए निर्देश के बाद महाराष्ट्र और आंध्रप्रदेश के श्रद्धालुओं को लेकर बसें उनके राज्यों के लिए रवाना हुई। बसों में पुलिस कर्मी को भी भेजा गया। वहीं अब उन सिपाहियों को उन शहरों में ही क्वारंटीन कर दिया गया है अब वो दोनों सिपाही यूपी प्रशासन मदद की गुहार लगा रहे हैं। 

बता दें कि लॉक डाउन की वजह से वाराणसी में फंसे महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश के सैकड़ों श्रद्धालुओं की यहां के प्रशासन ने बसों द्वारा उनके राज्यों में भेजा था। सुरक्षा के मद्देनजर प्रशासन ने महाराष्ट्र की बस में सिपाही अक्षय यादव और आंध्र प्रदेश की बस में सिपाही सुबोध कुमार को भेजा, जिसके बाद दोनों सिपाही अलग-अलग राज्य में वहां के प्रशासन  द्वारा बस चालक सहित क्वरेन्टीन कर दिए गए हैं। महाराष्ट्र के सांगली में अक्षय और विशाखापत्तनम में सुबोध को रोक लिया गया है।

वहीं अक्षय ने बताया कि मेडिकल कॉलेज के एक कमरे में उसे भी कोरोना संदिग्धों की तरह आइसोलेट कर दिया गया है। इस संबंध में स्थानीय प्रशासन के अधिकारी कुछ भी सुनने को तैयार नहीं। इस बाबत उसने वाराणसी के उच्चाधिकारियों से मदद की गुहार लगाई है। जिसको लेकर यहां की प्रशासन उन राज्यों के अधिकारियों बात कर कोई विकल्प निकलाने के  प्रयास में जुट गयी है।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top