वाराणसी

ठेकेदार की मौत के बाद सुसाइड नोट आया सामने, अधिकारियों के माथे पर पड़ा बल

वाराणसी। पीडब्ल्यूडी कार्यालय में बुधवार को चीफ इंजीनियर अम्बिका सिंह के कार्यालय में उनके सामने ही ठेकेदार अवधेश श्रीवास्तव द्वारा खुद को गोली मार अपनी इहलीला समाप्त करने के मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। ठेकेदार की मौत के बाद पुलिस को एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जो मीडिया में आने के बाद से लोक निर्माण विभाग व बिजली विभाग के कई अधिकारियों के हाथ पांव फूलने लगे हैं।

सुसाइड नोट में लगे यह गंभीर आरोप
ठेकेदार अवधेश श्रीवास्तव की मौत के बाद पुलिस को एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है, जिसमें लिखा है कि ठेकेदार ने 100 बेड मैटरनिटी विंग, कबीरचौरा वाराणसी निर्माण हेतु ई—टेंडरिंग के माध्यम से 4 सितम्बर 2015 को लोक निर्माण विभाग से अनुबंध किया था। जो विभागीय दर 20 प्रतिशत पर अनुमोदित किया गया। इसमें शिफ्ट फाउंडेशन का कार्य सम्मिलित था। इसे अनुबंध करने के बाद बदल दिया गया। इस दौरान कई बार ड्राइंग को बदल दिया जाता रहा और कई बार तोड़फोड़ कर पुन: निर्माण कार्य कराया जाता रहा, जिसके भुगतान के लिए हमेशा ठेकेदार को परेशान किया जाता रहा। पत्र में मृतक ने लोक निर्माण विभाग के अवर अभियंता मनोज सिंह व सहायक अभियंता आशुतोष सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह लोग उस पर कमीशनखोरी को लेकर दबाव बनाते रहें। इसको लेकर उसने उपर के अधिकारियों से कई बार शिकयत भी की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इस बीच कार्य को कराने के लिए ठेकेदार द्वारा कार्यस्थल पर बिजली की उपलब्धता न होने की बात कही गई। पत्र में लिखा है कि ठेकेदार ने इसको लेकर भी लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को सूचित किया, लेकिन बिजली विभाग से मिलीभगत कर उसके खिलाफ आरसी जारी करवा दिया गया। इतना ही नहीं कई अन्य कार्यों का भी उसका बकाया भुगतान नहीं किया गया, जिससे आजीज होकर उसने आत्महत्या का निर्णय लिया। पत्र में लिखा है कि मृतक की मौत के जिम्मेदार बिजली विभाग व लोक निर्माण विभाग के कुछ अधिकारी हैं, जिन्होंने भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का प्रयास किया जिसके कारण मृतक पूरी तरह से टूट चुका था।

क्या कहना है एसएसपी का
सुसाइड नोट में लिखी बातों के आधार पर अगर बात की जाए तो ठेकेदार ने इन्हीं सब समस्याओं से आजीज होकर खुद को गोली मार अपनी ईहलीला समाप्त कर ली। घटना की सूचना पर मौके पर कमिश्नर दीपक अग्रवाल, डीएम सुरेन्द्र सिंह व एसएसपी आनंद कुलकर्णी पहुंच गये हैं और चीफ इंजीनियर कार्यालय का गेट बंद कर चीफ इंजीनियर अम्बिका सिंह से पूछताछ की जा रही है। हालांकि एसएसपी आनंद कुलकर्णी का कहना रहा कि मौके पर जांच की गई है और घटनास्थल पर पिस्तौल बरामद हुई है। इसके अनुसार मामले की जांच की जा रही है और जो कोई भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top