वाराणसी। बीते दिनों नेपाली युवक का मुंडन करा उससे जय श्रीराम के नारे लगवाने के बाद प्रशासन ने चार आरोपियों को हिरासत में लिया है। जबकि मुख्य आरोपी अभी भी फरार चल रहा है। उधर नेपाली मंदिर में भी नेपालियों को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी गई थी और पोस्टर चस्पा किया गया था, जिसके बाद प्रशासन ने वहां पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी है। ताकि किसी अप्रिय घटना को होने से रोका जा सके।

नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की तरफ से भगवान राम पर दिए गए बयान के बाद वाराणसी में विश्व हिंदू सेना ने पोस्टर जारी किया था। इस पोस्टर को ललिता घाट स्थित नेपाली मंदिर पर चस्पा किया गया था। पोस्टर में लिखा था कि नेपाली पीएम अपने बयान को वापस लें अन्यथा भारत में रह रहे नेपालियों को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। उसके अगले ही दिन विश्व हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने एक नेपाली युवक को पकड़कर उसका मुंडन करवाया और नेपाल विरोधी नारे लगवाए। मामले ने तूल पकड़ा तो पुलिस 4 आरोपियों को पकड़ कर उनसे पूछताछ कर रही है। वहीं मुख्य आरोपी विश्व हिंदू सेना का अध्यक्ष अरुण पाठक अभी भी फरार चल रहा है।

वाराणसी पुलिस ने नेपाल के नागरिकों की सुरक्षा और मंदिर की सुरक्षा के लिए नेपाली मंदिर में पुलिस बल की तैनाती कर दी है। ताकि मंदिर में पढ़ने वाले छात्रों और पुजारियों के साथ कोई अप्रिय घटना ना हो। इसके साथ ही वाराणसी पुलिस इस कृत्य में शामिल लोगों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है।

नेपाली युवक के जबरन मुंडन के बाद हरकत में आई पुलिस, नेपाली मंदिर में सुरक्षाकर्मी तैनात
To Top