अपना प्रदेशअपराधप्रशासनमऊ

मांदी-सिपाह डबल मर्डर केस का पुलिस ने किया खुलासा, पति ही निकला हत्यारा 

मऊ। उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के दोहरीघाट थानाक्षेत्र के मांदी सिपाह बाजार में बीते 8 अक्टूबर को मां-बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।  अज्ञात बदमाशों ने बाजार के स्थानीय निवासी चन्द्रशेखर के घर में घुसकर उसकी पत्नी और 15 वर्षीय बेटे को गोलीमार मौत के घाट उतार दिया।  इस दोहरे हत्याकांड से पूरे जिले में सनसनी फैल गई थी।  मामले में खुलासा करते हुए हत्यारे पति को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके मीडिया के सामने जानकारी दी। 

बता दें कि पूरा मामला दोहरीघाट थाना क्षेत्र के मांदी सिपाह बाजार का है।, जहां  बाजार के रहने वाले चन्द्रशेखर राय की पत्नी रेखा राय यूपी के बलरामपुर जिले में एक प्राथमिक स्कूल में शिक्षिका दशहरे की छुट्टी बिताने के लिए अपने घर पर आई हुई थी।  परिवार वालों के मुताबिक जिस वक्त घटना हुई उस वक्त परिवार का कोई भी सदस्य घर पर नहीं था।  घर के दूसरे मंजिले पर पहुंचकर  बदमाशों ने गोली मारकर हत्या को अंजाम दिया।  घटना का खुलासा करने के लिए पुलिस अधीक्षक के द्वारा पूरे प्रकरण की जांच की जा रही थी।  वहीं घटना के खुलासे के लिए स्वाट टीम और डॉग स्कवायड को लगाया गया था, साथ ही राज्य स्तरीय फॉरेंसिक जांच की टीम को भी लगाया गया था।

घटना का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने बताया कि 8 अक्टूबर को सुबह 10 बजे मां-बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।  पति की तरफ से अज्ञात लोगों के विरुद्ध तहरीर दी गई थी।  घटना का खुलासा करते हुए हत्या में लिप्त महिला के पति चंद्रशेखर राय को गिरफ्तार किया गया है।  घटना का तरीका बहुत पेचीदा था, जिसकी गहन जांच की गई।  सर्विलांस और फॉरेंसिक एविडेंस की मदद ली गई है।  हेड क्वार्टर से जांच कराने के लिए राज्य स्तरीय फॉरेंसिक टीम भी लाई गई थी। बयानों में विरोधाभास, फॉरेंसिक रिपोर्ट, सर्विलांस आदि को ध्यान रखते हुए जांच में पाया गया कि मृतिका के पति ने ही हत्या की है।  पति के पास 1 साल से एक अवैध पिस्टल रहता था। साथ ही इसके पास एक लाइसेंसी असलहा भी मिला है, जो इसने 4 महीने पहले अपने रिश्तेदार को दे दिया था। अवैध पिस्टल से हत्या की गई है, मौके से एक कारतूस और खोखा भी बरामद किया गया।  इसी पिस्टल से एक साल पहले भी फायर किया गया था।  हत्या के बाद अंतिम संस्कार के चार दिन बाद अपने को बचाने के लिए पिस्टल को नदी में फेंक दिया गया था।  बरामदगी के लिए गोताखोरों को नदी में उतारा गया लेकिन सफलता नहीं मिली है।

एसपी ने बताया कि मायके पक्ष का भी बयान लिया गया जिसमें पति-पत्नी के संबंधों के बारे में बताया गया।  सर्विलांस में भी बहुत सारी बातें सामने आई हैं।  आरोपित को छोटी-छोटी बातों पर बहुत गुस्सा आता था, और यही घटना की मुख्य वजह बनी।  घटना का मुख्य कारण पति-पत्नी के बीच खटास और 7 दिन पहले हुआ विवाद था।  घटना से एक दिन पहले भी विवाद हुआ और उस दिन भी सुबह विवाद हुआ था।  फॉरेंसिक टीम की डिटेल रिपोर्ट भी अभी आनी है जिससे और भी बातें सामने आएंगी।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button