पीएम मोदी ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा- जनता में फैलाया जा रहा भ्रम

0
25

 

रिपोर्ट- अंकित सिंह 

ब्यूरो डेस्क। दिल्ली के रामलीला मैदान से जनसभा को संबोधित करते हुए रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नागरिकता कानून पर हो रही हिंसा को लेकर विपक्ष को आड़े हाथों लेने का काम किया, तो वहीं देश के मुसलमानों से कहा कि उन मुसलामानों का सीएए एवं एनआरसी से कोई लेना देना नहीं हैं, जिनके पुरखों का जन्म हिंदुस्तान में हुआ है। पीएम मोदी ने कहा कि विपक्ष केवल देशभर में झूठ फैला रहा हैं।

नागरिकता कानून देशभर के लिए नहीं बल्कि उनके लिए है,जो पाकिस्तान,बांग्लादेश एवं अफगानिस्तान से अल्पसंख्यक हमारे देश में शरणार्थी बनकर आए हैं। यह कानून उन पर लागू होगा। विपक्ष केवल जनता को भ्रमित करने का काम कर रही है। प्रधानमंत्री ने नागरिकता कानून को लेकर लोगों से देश की संसद, लोकसभा, राज्यसभा और चुने हुए प्रतिनिधियों का सम्मान करने के लिए कहा।

बताते चले कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के रामलीला मैदान में बीजेपी के द्वारा आयोजित धन्यवाद रैली को सम्बोधित करने पहुंचे थे। इस रैली का आयोजन दिल्ली के अंदर अवैध कॉलोनियों को नियमित करने पर किया गया था। उन्होंने कहा कि आजादी के इतने दशकों के बाद तक दिल्ली की जनता को अपने घरों की समस्या को लेकर छल-कपट,झूठे वादों से गुजरना पड़ा है। आज 40 लाख लोगों के जीवन में प्रधानमंत्री उदय योजना एक नया सवेरा लेकर आया है।

उन्होंने सीएए कानून के विरोध में हिंसा करने वालों पर भी निशाना साधा और कहा कि अगर मोदी से दिक्क्त है, तो मेरा पुतला फूंको, गरीब की झोपड़ी नहीं। पीएम ने कहा कि मेरे काम में कहीं भी भेद भाव की बू आती है तो देश के सामने खड़ा कर दीजिए, जिन्हें मेरा विरोध करना है वे मेरे पुतले पर जूते मारें, लेकिन देश की संपत्ति को मत जलाओ ,गरीब का रिक्शा मत जलाओं,गरीब की झोपड़ी मत जलाओ।

प्रधानमंत्री ने ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ साल पहले तक यही ममता दीदी संसद में खड़े होकर गुहार लगा रहीं थीं कि बांग्लादेश से आने वाले घुसपैठियों को रोका जाए, वहां से आए पीड़ित शरणार्थियों की मदद की जाए। संसद में स्पीकर के सामने कागज फेंकती थी और आज वह इसको लेकर विरोध कर रही हैं और दीदी तो यूएन तक पहुंच गई। ममता दीदी बंगाल की जनता पर भरोसा तो करो, आप चुनाव आते ही क्यों डर गईं।