राजनीति

CM YOGI को भेजे गए एक लाख पत्र, फिर भी नहीं बदला फैसला, विश्वकर्मा समाज में आक्रोश

वाराणसी। योगी सरकार में विश्वकर्मा पूजा के सार्वजनिक अवकाश को रद्द किये जाने के बाद से ही विश्वकर्मा समाज में इसको लेकर खासा आक्रोश व्याप्त है। रविवार को प्राचीन खिड़कियां घाट पर स्थित पंचमुखी विश्वकर्मा मंदिर पर विश्वकर्मा समाज के लोगों ने बड़ी संख्या में विरोध दर्ज कराते हुए सामूहिक मुंडन संस्कार करा कर प्रदेश सरकार के इस फैसले का जमकर विरोध किया।

ऑल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा कि इस सरकार में बेतहाशा अपराध की घटना बढ़ रही है। सरकार नीचे तबके के लोगों के आवाज को दबाने का काम कर रही है। हमारी मांग थी कि विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर सरकार सार्वजनिक अवकाश घोषित करे। इसके लिए पिछले दिनों प्रदेश भर से करीब एक लाख लोगों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भी लिखा था, लेकिन सरकार ने इसे पूरी तरह से नकार दिया।

उनका कहना है कि भगवान विश्वकर्मा किसी एक धर्म या समाज के पूज्यनीय नहीं हैं, बल्कि सभी के लिए है। इसलिए सरकार द्वारा लिए गये इस फैसले से करोड़ों लोगों की भावना आहत हुई है। यही कारण रहा कि हम सब विश्वकर्मा समाज के लोगों ने यहां सामूहिक मुंडन कराकर सरकार को यह चेताने का काम किया है कि वह अपने इस दमनकारी रवैये को छोड़कर हमारी मांग को पूरा करे। सरकार हमारी मांग को पूरा नहीं करती है, तो हम अपना प्रदेश व्यापी यह आंदोलन विश्वकर्मा पूजा तक जारी रखेंगे।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top