अपना प्रदेश

कोरोना अपडेट: शराब से ऐसा प्रेम कहीं पड़ न जाये भारी, लोग भूल गए खतरनाक है कोरोना बीमारी

वाराणसी। कोरोना वायरस के प्रभाव को रोकने के लिए देश में लॉक डाउन किया गया है। लॉक डाउन के तीसरे चरण में सोमवार को कुछ रियायत भी दी गई है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में अन्य दुकानों के साथ साथ शराब की दुकानों को भी खोल दिया गया है। हालांकि इसके लिए शर्त यह थी कि लोग सोशल डिस्टेंस को मेंटेन करेंगे और कतार में शराब खरीद सकेंगे। लेकिन शहर के कई ऐसे इलाके हैं, जहां सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही है। लोग शायद यह भूल गए हैं कि कोरोनावायरस के संक्रमण का खतरा अभी टला नहीं है।

वाराणसी में कोरोनावायरस के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। इसके बाद जिले को रेड जोन किस श्रेणी में रखा गया है। ऐसे में रविवार को जिलाधिकारी ने आम लोगों को रियात देने के लिए कुछ दुकानों को खोलने का आदेश जारी किया। जिसमें शराब की दुकानें भी शामिल है। हालांकि जिलाधिकारी ने यह स्पष्ट किया था कि शराब की दुकान तभी खुलेगी जब लोग सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करेंगे। इसके साथ ही दुकानों पर भीड़ नहीं लगनी चाहिए। लेकिन जिले के कई इलाकों में ठीक इसका उल्टा देखने को मिल रहा है। लोग भीड़ के रूप में दुकानों पर खड़े हैं। सोशल डिस्टेंस का भी पालन नही हो रहा है। हालांकि कुछ जगह पर लोग सोशल डिस्टेंस को फॉलो भी कर रहे हैं। लेकिन कई जगह पर भीड़ उमड़ पड़ी है।

वाराणसी जनपद में अब तक कुल कोरोनावायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या 64 पहुंच चुकी है। बावजूद इसके लोग आज सड़कों पर निकलकर शराब खरीद रहे हैं और सोशल डिस्टेंसिंग को नहीं मान रहे हैं। हालांकि आदेश हुआ है कि जो शराब की दुकानें संक्रमण मुक्त क्षेत्रों से दूर हैं उन्हें ही खोला जाएगा। लेकिन जिस तरह से लोग दुकानों पर भीड़ जमा कर रहे हैं, कहीं यह शहर को भारी न पड़ जाए। क्योंकि कोरोना पर जीत तभी संभव है, जब लोग एक दूसरे से दूरी बनाकर रहेंगे। नेशनल विजन एक बार लोगों से फिर से अपील कर रहा है कि कृपया अपने घरों में रहें। लॉक डाउन का पालन करें और सरकारी निर्देशों का पालन करें। तभी कोरोना पर जीत सम्भव है।

Most Popular

To Top