वाराणसी

महामारी के इस काल में भी उम्मीदों से भरी है हमारी काशी : PM मोदी

वाराणसी। पीएम मोदी अपने संसदीय क्षेत्र काशी के सामाजिक  और सरकारी संस्थाओं के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा संवाद किया। इस दौरान उन्होंने सभी जरुरी बातों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि भगवान शंकर की  कृपा है कि इस कोरोना महामारी के काल में भी काशी और सभी काशीवासी उम्मीदों से भरे हुए हैं और इसका डटकर सामना कर रहे हैं।

 पीएम मोदी ने हर-हर महादेव के उद्घोष के साथ अपने संवाद की शुरुआत की। उन्होंने सही को संबोधित करते हुए कहा कि काशी के लोगों का एकजुट मिलकर इस महामारी से लड़ना मिसाल है। हर साल सावन का मेला लगता था जो इस साल नहीं लगा। बाबा के दर्शन के लिए लोग यहाँ दूर दूर से आते थे मगर इसबार लोग नहीं आ पाए। इस वैश्विक महामारी  संक्रमण को रोकने के लिए कौन क्या कदम उठा रहा है, अस्पतालों की स्थिति क्या है, कहां क्या व्यवस्थाएं की जा रही हैं, क्वारंटीन को लेकर क्या हो रहा है, बाहर से आए श्रमिक साथियों के लिए क्या प्रबंध हो रहे हैं, ये सारी जानकारियां मुझे मिल रही थीं।  

उन्होंने लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पौराणिक मान्यता के अनुसार मां अन्नपूर्णा ने भगवान शंकर से भिक्षा में अन्न माँगा था।  तब से काशी में कोई  भूखा नहीं रहा है। यही वजह है कि काशी जनता और संस्थाएं लोगों तक खाना पहुंचाने के काम को बखूबी निभाया है। उन्होंने आगे कहा कि  इतने कम समय में फूड हेल्पलाइन और कम्यूनिटी किचन का व्यापक नेटवर्क तैयार करना, हेल्पलाइन विकसित करना, डेटा साइंस की मदद लेना, वाराणसी स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का भरपूर इस्तेमाल करना, यानि हर स्तर पर सभी ने गरीबों की मदद के लिए पूरी क्षमता से काम किया। जो की तारीफे काबिल है।  इसकी जितनी भी प्रशंसा की जाये वो कम है। पीएम मोदी ने कहा कि इसी तरह से लोग एकजुट होकर सेवाभाव के तहत लोगों की आगे नहीं मदद करेंगे यही आशा करता हूँ और सबको सबके काम  लिए मैं प्रणाम करता हूं।

Most Popular

To Top