वाराणसी

शादियों में केवल 100 लोग ही हो सकते हैं शामिल, कैटरिंग कारोबारियों की बढ़ी चिंता

रिपोर्टः- अतुल पाण्डेय

वाराणसी। ठंड की शुरुआत होते ही कोरोना के संक्रमण का खतरा फिर तेजी से बढ़ रहा है। लगातार नए मरीजों के मिलने के बाद सरकार ने शादी-ब्याह के कार्यक्रमों के लिए केवल 100 लोगों  प्रतिबंध लगाया दिया है। हालांकि अनलॉक की दौरान इसमें छूट दे दी गई थी, लेकिन जैसे-जैसे कोरोना के केस में बढ़ोतरी हुई यह संख्या 100 तक आकर रुक गई है। इसको लेकर टेंट और कैटरिंग व्यवसाई काफी चिंतित है। उनका मानना है कि ऐसे में उनके जेब पर बोझ बढ़ेगा।

टेंट और कैटरिंग व्यवसाई शरद श्रीवास्तव ने बताया कि लोगों ने शादियों की एडवांस पेमेंट कर रखी है। 200 से लेकर 300 तक के लोगों के खाने पीने की व्यवस्था के लिए एडवांस पेमेंट हुआ है। यही नहीं कैटरिंग वालों ने तेल मशाले का स्टॉक भी लेकर रखा हुआ है। लेकिन अब सरकार ने सिर्फ 100 लोगों तक ही इसे सीमित कर दिया है। जिसके बाद मुसीबत बढ़ने लगी है। उन्होंने बताया कि जिनके यहां शादी है वह अब पेमेंट कम करने की बात कर रहे हैं। इस दौरान वेटर या खाना बनाने वाले लोगों को तनख्वाह तक देने में दिक्कत हो सकती है। शरद ने बताया कि मुनाफे की बात तो छोड़िए पैसे जेब से लग जाएंगे। एक तो लॉकडाउन ने बरबाद कर दिया है। कामकाज ठप पड़ा है। अब जब लगन शुरु हुआ तो सरकार ने फिर से प्रतिबंध लगा दिया।

चिंतित टेंट और कैटरिंग व्यवसाय अब सरकार की तरफ आस लगाए बैठे हैं कि सरकार अगर ढील दे तो अपना कारोबार आगे बढ़ा सकते हैं। शरद ने बताया कि कोरोना के कारण वैसे भी रोजी रोजगार पर संकट खड़ा हो चुका है। लॉकडाउन के कारण शादियां स्थगित कर दी गई और अब जब शादियों का समय आया तो फिर से कोरोना के केस में बढ़ोतरी होने लगी है। अगर यही स्थिति रही टेंट और कैटरिंग कारोबारी सड़क पर आ जाएंगे। कारोबारियों ने सरकार से गुहार लगाई है कि सरकार उनकी समस्याओं के बारे में सोचे।

Most Popular

To Top