प्याज ने बिगाड़ा किचन का हाल, दाम छू रहा है आसमान  

0
20

ब्यूरो डेस्क। प्याज की महंगाई ने अब किचन का बजट बिगाड़ दिया है। लखनऊ समेत देशभर में प्याज की कीमतें प्रति किलो 100 रपए से भी ज्यादा पहुंच गई हैं। इसकी वजह 35000 टन प्याज का सड़ना बताया जा रहा है। 

गौरतलब है कि जो प्याज फुटकर में 80 से 100 रुपये में बिक रहा है उसी का थोक मंडी रेट 48 से 50 रुपये है। मंडी के प्याज कारोबारियों का कहना है कि नयी प्याज की गुणवत्ता अत्यंत खराब होने के कारण वे अधिक माल नहीं मंगा रहे हैं। मांग के अनुरूप आपूर्ति न होने से प्याज की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। राजधानी में सहित समूचे यूपी में नासिक व बेंगलुरू से प्याज की आपूर्ति होती है।

देश की सबसे बड़ी मंडी नासिक व बंगलुरू से प्याज की सबसे अधिक आवक होती है। नासिक व बेंगलुरू में हुई भारी बरसात ने एक बार फिर से प्याज की आपूर्ति बाधित कर दी है। इन दोनों शहरों की बड़ी मंडियां इस समय बेमौसम बरसात की विभीषिका से जूझ रही हैं। बारिश के कारण प्याज की आपूर्ति पर खासा असर पड़ा है। सामान्य दिनों में सीतापुर रोड की नवीन मंडी, दुबग्गा मंडी के साथ ही अन्य मंडियों में प्रतिदिन 10 से 12 ट्रक प्याज आती है। इसमें लगभग पांच ट्रक प्याज की खपत राजधानी में ही हो जाती है। शेष प्याज राजधानी के नजदीकी सीतापुर, हरदोई, रायबरेली, बाराबंकी, सुल्तानपुर सहित अन्य जनपदों में प्याज की आपूर्ति की जाती है। मांग की अनुपात में कम आपूर्ति होने के कारण दिन-प्रतिदिन प्याज की कीमतें बढ़ रही हैं।