अपना प्रदेश

बजरंगबली को चढ़ा डेढ़ किलो का स्वर्ण मुकुट, भक्तों ने निकाली भव्य शोभा यात्रा

वाराणसी। पूरे देश में आज पीएम मोदी का जन्मदिन बीजेपी कार्यकर्ताओं द्वारा मनाया जा रहा है। नरेन्द्र मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने पर वरिष्ठ पत्रकार डा. अरविन्द सिंह द्वारा संकल्पित डेढ़ किलो वजन का स्वर्ण मुकुट संकटमोचन हनुमान दरबार में अर्पित किया गया। कार्यक्रम में विलम्ब से पहुंचे केन्द्रीय मंत्री डा. महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने संकट मोचन मंदिर जाकर हनुमानजी की आरती की। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि हनुमान एक शक्ति और कल्याण का नाम है और यही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कार्यपण्राली का सूत्र वाक्य है।

इसके पूर्व धर्मसंघ के सभागार में काशी के वरिष्ठ वैदिक विद्वानों की मौजूदगी में स्वर्ण मुकुट का पूरे विधि-विधान से पूजन-अर्चन किया गया। धार्मिक कार्यक्रम धर्मसंघ के पीठाधीश्वर स्वामी चैतन्य देव ब्रह्मचारी की मौजूदगी में हुआ। स्वर्णमुकुट का विधि-विधान से पूजन अर्पण के बाद उसे फूल-मालाओं से सुसज्जित एक खुले ट्रक पर आम जनता के दर्शन के लिए रखा गया था। ट्रक के दोनों तरफ पीएम मोदी के बनारस में विभिन्न कार्यक्रमों का कटआउट लगाया गया था।

इस दौरान बड़ी संख्या में वैदिक विद्वान व बाल बटुक श्रीराम स्तुति करते तथा जय श्रीराम का उद्घोष करते चल रहे थे। शोभायात्रा के सबसे आगे डमरुदल अपनी आकर्षक प्रस्तुति करते चल रहा था। कतारबद्ध दो लाइनों में श्वेतांबर व पीताम्बरधारी बाल बटुक संस्कृत में प्रभु महिमा का बखान करते चल रहे थे। उनके पीछे हजारों की संख्या में भक्त जय श्रीराम -जय हनुमान करो कल्याण का उद्घोष करते चल रहे थे।

भगवान श्री राम व माता जानकी की बग्घी को स्वयं हनुमान का पात्र बने एक युवक खींच रहा था। शोभायात्रा में शामिल लोगों में जबरदस्त उत्साह देखा गया। पूरा यात्रा मार्ग श्रीराम ध्वजा से पटा हुआ था। मंदिर के द्वार से अन्दर स्वर्णमुकुट के बाक्स को ले जाने की होड़ मची रही। स्वर्ण मुकुट को मंदिर में महंत प्रो विश्वम्भरनाथ मिश्रा ने ग्रहण किया तथा वैदिक मंत्रोच्चार के बाद उसे मंदिर के पुजारियों को सौंप दिया गया। जिन्होंने मंदिर का पर्दा गिराकर उसे हनुमान लला के मस्तक पर लगाकर पूजन-अर्चन किया। इसके बाद पर्दा हटने के बाद हजारों लोगों ने प्रभु की इस अलौकिक छवि को देखने के लिए उमड़ पड़े।

गौरतलब है कि बनारस के रहने वाले डॉक्टर अरविंद सिंह पूर्व में शिष्टमंडल के साथ प्रधानमंत्री से मुलाकात कर इस स्वर्ण मुकुट को स्पर्श कराया था। खुद प्रधानमंत्री ने मोदी ने अपने हाथों से उसे छूकर संकटमोचन मंदिर में चढ़ाने के लिए शुभकामनाएं दी थी। संकट मोचन हनुमान मंदिर पर चढ़ने वाला स्वर्ण मुकुट डेढ़ किलो के वजन का है जिसकी कीमत लगभग 55 लाख रुपए है।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top