मिस्र से प्याज की पहली खेप पहुंची मुंबई, बढ़ते मूल्यों पर लगेगी लगाम 

0
27

ब्यूरो रिपोर्ट। देश में प्याज की कीमतों को लेकर मचे हाहाकार के बीच अंतत: आम आदमी के लिये राहत की खबर है। प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए मिस्र से मंगाई गयी प्याज की पहली खेप मुंबई बंदरगाह पर पहुंच गई है। हालांकि बाजार तक पहुंचने में इसे अभी दो-तीन दिन का समय लगेगा। 

बता दें कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश तथा गुजरात से भी सस्ते में प्याज उपलब्ध होने लगा है। इन दिनों देश में प्याज की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है लेकिन उपभोक्ताओं तथा सरकार के लिए भी यह राहत की खबर है कि कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए सरकार ने प्याज का आयात करने की जो पहल की थी उसका परिणाम सामने आने लगा है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अब प्रत्येक सप्ताह एक से दो खेप लगातार भारत पहुंचेगी। उम्मीद की जा रही है कि इस माह के अंत तक देश में प्याज पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होगा और कीमतों पर अंकुश लगेगा।

देश में प्याज की उपलब्धता को लेकर हुई एक उच्चस्तरीय बैठक में बताया गया कि देश के विभिन्न राज्यों से भी अगले कुछ दिन में प्याज की फसल मंडियों में आने लगेगी और दिसम्बर माह में महाराष्ट्र से दो लाख मीट्रिक टन, मध्यप्रदेश से 1.5 लाख मीट्रिक टन, गुजरात से 0.85 लाख मीट्रिक टन तथा कर्नाटक से एक लाख मीट्रिक टन मंडियों में पहुंचने की उम्मीद है। मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि लगभग छह लाख टन प्याज विभिन्न राज्यों से उपलब्ध होने के साथ साथ लगभग इतना ही आयातित प्याज भी अगले कुछ दिनों में उपलब्ध हो जाएगा। इस महीने के अंत तक प्याज की कीमतें सामान्य हो जाने की उम्मीद है।