अपना प्रदेश

मोस्टवांटेड विकास का कातिल किला हुआ जमींदोज।

कानपुर की घटना में 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए हैं, जिसके बाद पूरे पुलिस विभाग में आक्रोश का माहौल है। कुख्यात हिस्ट्रीशीटर के घर दबिश देने गई पुलिस टीम पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी गई, जिसमें 8 पुलिसकर्मियों की शहादत हुई है। घटना के बाद से ही प्रदेश में कानून व्यवस्था पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। बता दें कि कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के घर पुलिस गुरुवार की देर रात तक दबिस देने गई थी,इस दौरान पुलिस टीम पर हमला किया गया।जिसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। वहीं चार पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हैं,जिन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद आठ पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी है और डीजीपी से पूरे मामले की जानकारी मांगी है।जिसके बाद शनिवार को विकरु गांव ​में विकास दूबे के आलिशान बंगले को बुल्डोजर के जरिए गिराया गया। सुबह से ही भारी संख्या में फोर्स गांव में तैनात हो गयी और कुछ समय में ही बुलडोजर भी मौके पर पहुंच गयी देखते ही देखते बंगले को ध्वस्त कर दिया। इस ध्वस्तीकरण में हिस्ट्रीसीटर की दो लक्जरी कार को भी छतिग्रस्त किया गया। वहीं सूत्रों की मानें तो विकास दूबे नेपाल भागने की फिराक में है। घटना में पुलिस की स्पेशल सौ टीमे गठित की गयी है जो लगातार उसके ठिकानों पर दबिस दे रही है। फिलहाल अभी उसके गिरफ्तारी की कोई सूचना नही आ रही है। वहीं चौबेपुर थाना के विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया है।

Most Popular

To Top