VARANASI : इस बार की देव दीपावली में नहीं होगी महाआरती लगा विशेष ग्रहण

0
18

रिपोर्ट- अनुज जायसवाल

वाराणसी। दशाश्वमेध घाट पर गंगा सेवा निधि द्वारा कई वर्षों से प्रतिदिन गंगा आरती का कार्यक्रम अनवरत किया जाता है, जो देव दीपावली के समय महाआ​रती के रुप में अलग ही छठा बिखेरती है। इसको देखने के लिए देश विदेश से पर्यटक व श्रद्धालु रोजाना काशी आते हैं। वहीं देव दीपावली की महाआरती इस बार लोगों को देखने को नहीं मिलेगी।

काशी को पूरी दुनिया में आस्था का केंद्र माना जाता है, जहां पर प्रतिदिन कोई न कोई तीज त्योहार व विभिन्न कार्यक्रमों के साथ-साथ पुराने परंपराओं को भी जिवित रखा गया है। इसमें से एक है देव दीपावली पर होने वाली महाआरती। बता दें कि इस बार देव दीपावली पर महाआरती नहीं होगी। पत्रकारवार्ता के दौरान गंगा सेवा निधि के अध्यक्ष सुशांत मिश्रा ने बताया कि प्रशासन द्वारा गंगा पर स्टेज बनाने से रोके जाने पर दशाश्वमेध घाट पर महाआरती काे स्‍थगित करने का निर्णय लिया गया।

गंगा सेवा निधि द्वारा बीते कई वर्षों से देव दीपावली के मौके पर भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जाता था। सामान्य दिनों की तरह ही दशाश्वमेध घाट पर आरती आयोजित की जाएगी, लेकिन गंगा सेवा निधि प्रबंधन ने रविवार को निर्णय लिया कि देव दीपावली के दिन सात अर्चकों द्वारा ही सामान्‍य आरती की जाएगी।

गौरतलब है कि देव दीपावली पर घाटों पर प्लाटून पुल के पीपा पर बनने वाले मंच को एक बार फिर से शर्तों के साथ अनुमति दे दी गई। इसके बावजूद पीपा की संख्या को लेकर दशाश्वमेध घाट पर बनने वाले मंच के आयोजक गंगा सेवा निधि और प्रशासन के बीच पेंच फंस गया है। हर साल 6 पीपा पुल बनाया जाता है। वहीं इस बार प्रशासन ने तीन पीपा पुल बनाने की अनुमति दी है और आयोजक 6 पुल की मांग को लेकर अड़े हुए है।