वाराणसी

साहब! नहीं बिक पाया शराब का स्टाक, थोड़ी रियायत दें

वाराणसी। लॉक डाउन में शराब की दुकानों को खोलने के बाद शराब प्रेमियों की लाइन लग गई थी, लेकिन फिर भी शराब की बीक्री में भारी कमी आई है। ऐसा कहना है शराब दुकान के मालिकों का। एक हफ्ते के भीतर शराब का स्टाक बेचना है नहीं तो स्टाक को नष्ट करना पड़ेगा। ऐसे में दुकान मालिकों की चिंता बढ़ गई है। इन्ही सब बातों को लेकर जिले के शराब दुकानदार आबकारी विभाग के ऑफिस पहुंचे और आबकारी आयुक्त को अपनी व्यथा सुनाई।

लॉक डाउन के दौरान जब शराब की दुकानें खुली तो दुकानों पर लंबी लाईन देखने को मिली। सरकार ने आदेश दिया कि एक हफ्ते के भीतर स्टाक को बेचना है नहीं तो शराब के बचे हुए स्टॉक को नष्ट करना होगा। दुकानदारों की माने तो शराब की बिक्री पहले के मुकाबले कम हुई है। दुकान मालिकों ने बताया कि इसके पीछे वजह है लोगों का पलायन कर अपने घर चले जाना। इस वजह से शराब कम बिक रही है। दुकानों को खोलने का समय भी सुबह 10 बजे से शाम को 7 बजे तक कर दिया गया है। इससे शराब की बीक्री में करीब 80% की कमी आई है। शराब मालिकों ने इसी बात को लेकर आबकारी आयुक्त से मुलाकात की। शराब कारोबारियों ने कहा है कि ऐसे ही हालात रहे तो शराब की दुकानों बंद कर दिया जाएगा।

शराब कारोबारियों ने कहा है कि कोरोना काल में शराब व्यवसाईयों की वजह से देश की अर्थव्यवस्था को सुचारु रुप से मजबूत किया जा रहा है। इसमें सरकारी नियमावली के कारण कारोबारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। शराब कारोबारियों ने सरकार से मांग की है कि उनकी आर्थिक स्थिति को देखते हुए नियमावली में बदलाव कर उन्हे रियायत दी जाए।

Most Popular

To Top