प्राचीन चूड़ी मेले का हुआ आगाज, महिलाओं ने बढ़-चढ़कर की खरीदारी

0
24

रिपोर्ट- नीरज सिंह

जौनपुर। जिले में लगने वाले सात दिवसीय प्रसिद्ध चूड़ी मेले का आगाज हो गया है। इसी के साथ मेले में महिलाओं की भीड़ भी उमड़ पड़ी हैं। ऐसी मान्यता है कि इस मेले में माता सीता अपनी सखियों के साथ श्रृंगार का सामान खरीदती थी। इस परंपरा को जीवंत रखते हुए। आज भी युवती माता सीता का रूप लेकर खरीदारी करने आती है।

शाहगंज प्रसिद्ध चूड़ी मेले के बारे में मान्यता है कि लंका पर विजय के बाद माता सीता और भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या जा रही थी। उसी दौरान माता सीता अपनी सहेलियों के साथ इस मेले में जाकर श्रृंगार का सामान खरीदती हैं।इसी को देखते हुए ये मेला महिलाओं के लिए शुभ प्रतीक माना जाता है। ये मेला विजयादशमी के पर्व के बाद मनाया जाता है।

इस मेले में दूर-दराज के व्यापारी आकर यहां दुकान लगाते है। मेले में बड़ी संख्या में महिलाएं खरीदारी करती है। ये मेला करीब सप्ताह भर चलता है। वहीं इस मेले में पुरूष का प्रवेश वर्जित होता है। महंगाई की बात करे तो मेले में बिकने वाले समान पहले से महंगा हो गया है। महंगाई का असर महिलाओं के रंग-बिरंगी चूड़ियों पर भी देखा जा सकता है। मेले में चूड़ी, कंगन, क्राकरी के बर्तन और सौंदर्य प्रसाधन की दुकानें सजकर तैयार हो चुकी है।