वाराणसी। काशी के महाश्मशान के डोम राजा जगदीश चौधरी का मंगलवार सुबह निधन हो गया। वो 55 वर्ष के थे। लम्बे समय से सिगरा के निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था, आज सुबह उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई जिसके बाद परिजन उनको इलाज के लिए अस्पताल ले गए, जहां उनका निधन हो गया।

बता दें कि साल  2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनको अपना प्रस्‍तावक चुना था। पीएम के प्रस्तावक बने जाने पर डोम राजा ने ख़ुशी जाहिर करते हुए कहा था कि पहली बार किसी राजनीतिक दल ने हमें यह पहचान दी है इस बात की उन्हें काफी ख़ुशी है। वहीं परिजनों ने बीमारी के बारे में बताते हुए कहा कि जगदीश चौधरी के जांघ में कई महीनों से घाव हो गया था, जिसका इलाज काफी दिनों से सिगरा के निजी अस्पताल में चल रहा था।

गौरतलब है कि डोम बिरादरी का इतिहास काफी पुराना है।पौराणिक गाथाओं के अनुसार, राजा हरिश्चंद्र ने खुद को श्मशान में चिता जलाने वाले कालू डोम को बेच दिया था। उसके बाद से ही डोम बिरादरी का प्रमुख यहां डोम राजा कहलाता है। चिता को देने के लिए मुखाग्नि उसी से ली जाती रही है। वहीँ शहर की जानी मानी हस्तियों ने डोम राजा के निधन पर शोक जताया है। डोम राजा जगदीश चौधरी के निधन की सूचना मिलने के बाद से ही त्रिपुरा भैरवी घाट स्थित उनके निवास पर उनके परिजनोंं और परिचितों का आना शुरू हो गया है। परिजनों ने बताया है कि दोपहर बाद डोम राजा का अंतिम संस्‍कार किया जायेगा।

काशी के डोम राजा का निधन, लम्बे समय से चल रहा था इस बीमारी का इलाज
To Top