काशी से उठी मांग, औषधि केंद्रों पर उपलब्ध हो जेनेरिक दवाएं

0
29

वाराणसी। प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्रों पर घोषित सभी जेनेरिक दवाओं को उपलब्ध कराने की मांग को लेकर सामाजिक संस्था सुबह ए बनारस क्लब के बैनर तले विशेश्वरगंज चौराहे पर धरना प्रदर्शन किया गया। लोगों का कहना है कि अंग्रेजी दवाओं में जीवन रक्षक सहित 364 ऐसी कई दवाएं है जो केंद्र सरकार के अधीन में है। इन दवाओं के दाम लगातार बढ़ते जा रहे है, जिससे आम जनता काफी नाराज है।

सामाजिक संस्था सुबह ए बनारस क्लब के अध्यक्ष विजय कपूर ने कहा कि केंद्र सरकार के अधीन में रहते हुए भी दवा की कंपनियां लगातार दामों में वृद्धि करती जा रही हैं। गौरतलब है कि मरीजों को सस्ती दवाइयां उपलब्ध कराने के उद्देश्य से पूरे देश में प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के तहत सस्ती जेनेरिक दवा की कई दुकानें खोली गई। वाराणसी में सरकारी अस्पतालों सहित लगभग 20 जगहों पर जन औषधि केंद्र खोले गए है, लेकिन जन औषधि केंद्र पर सभी घोषित दवाइयां उपलब्ध नहीं हो पा रही है। उन्होंने कहा कि मानक के अनुसार यहां 650 दवाइयां होनी चाहिए, लेकिन अधिकतर केंद्र पर 150 दवाइयां ही उपलब्ध है, जिसमें ब्लड शुगर की दवा का बराबर अभाव बना हुआ है।

उन्होंने कहा कि उच्च गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाएं बाजार मूल्य से कम दर पर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री जन औषधि योजना का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1 जुलाई 2015 को शुभारंभ किया था। योजना की शुरुआत के बाद पूरे देश में हजारों जन औषधि केंद्र खोले गए, लेकिन इसका लाभ केवल कागजों तक ही सिमट कर रह गया। शहर में मंडलीय अस्पताल कबीर चौरा, दीनदयाल अस्पताल, रामनगर अस्पताल, समेत लगभग 20 जगहों पर जन औषधि केंद्र खुले हैं। इससे मरीजों की महंगी दवाइयां खरीदनी पड़ रही है।