अपना प्रदेश

कोरोना अपडेट: जब DM ने बेटे के साथ तथाकथित घास खाकर दिया नसीहत

वाराणसी। देश में तेजी से फ़ैल रहे कोरोना वायरस के साथ ही अप्रमाणित खबरों का सिलसिला भी तेजी से बढ़ गया है,वाट्सअप, फेसबुक या फिर कोई अन्य सोशल साइट हो। ऐसी ही एक अप्रमाणित खबर बुधवार को सामने आई जिसमें ये लिखा गया था कि बंदी और पैसे के आभाव में गांव के कुछ लोग घास खाकर जीवनयापन कर रहे हैं। तेज़ी से वायरल हो रहे इस खबर की भनक जिला प्रशासन को जैसे ही मिली प्रशासन उस खबर की तह तक पहुंचकर सच्चाई को सामने ले आई, जिसमें खुद डीएम अपने बेटे के साथ उस घास यानि की हरे चने की पत्तियों को खुद भी खाया और उनके साथ ही उनके बेटे ने भी खाया। साथ ही उस मिडिया हाउस पर कार्रवाई के लिए नोटिस भी दिया गया है। 

बता दें कि बुधवार को एक खबर प्रकाशित की गयी थी जिसमें गांव के कुछ लोगों को हरी घास  हुए खाते बताया गया था, जिसके बाद ये खबर तेजी से वायरल होने लगा, वहीं इस खबर की वजह से लोगों में कोरोना को लेकर बन रहे हालात ज्यादा ही परेशान करने लगे। जैसे ही इस बात की खबर जिला प्रशासन को हुई तो त्वरित करवाई करते हुए जांच के लिए बोल दी, जिसके बाद हम कुछ नहीं बोलेंगे हर बात के जवाब में ये तस्वीर खुद ही अपने आप में काफी है।

देखा आपने खुद डीएम ने उस घास कहि जाने वाली चीज को अपने ऑफिस में मंगवाकर खुद खाएं और अपने बेटे को भी खिलाया। इससे साफ पता चलता है कि संकट की इस घडी में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो महज टीआरपी बढ़ाने के खातिर बिना पुष्टि के खबरों को प्रकाशित कर दे रहे हैं। इतना भी नहीं सोचते कि उनके द्वारा दिए गए फ़र्ज़ी खबरों का असर आम जनता पर कैसा पड़ रहा।

डीएम ने इस संकट की घड़ी में घास वाली खबर पर त्वरित जांच कराकर एक ओर जहां लोगों को पैनिक होने से रोका है तो वहीं दूसरी तरफ अप्रमाणित खबरों को देने वालों को भी चने की साग को खाकर करारा जवाब दिया है। नेशनल विजन मीडिया बंधुओं और सोशल साइट पर अप्रमाणित खबर देने वालों से अपील करता है कि महज थोड़े से टीआरपी के लालच में जनता को पैनिक नहीं करें बल्कि जिन भी खबरों को प्रकाशित करें उसकी पुष्टि पहले पूरी तरह से कर लें इतना ही नहीं इस संकट की घडी में मैनेज कर के भी खबरों को नहीं चलाएं।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top