धर्म / ज्योतिष

कोरोना अपडेट: जानिए, एक दीया और प्रकाश का रहस्य

ब्यूरो डेस्क। जहां तेजी से कोरोना अपना पांव पसार रहा है,वहीं देश को कोरोना के कहर से बचाने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें पूरा जोर लगाई हुई है। देश के पीएम मोदी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था और वहीं से कोरोना को हराने का शंखनाद हुआ। भारत में ज्योतिष विज्ञानं का अपना खासा महत्व है और इस पूरी घटनाक्रम के पीछे खगोलीय उतार-चढ़ाव की रुपरेखा को कई ज्योतिषों ने उकेरते हुए भविष्वाणी की। वहीं पीएम के हर बड़े ऐलान को ज्योतिषविद ज्योतिष गणना से जोड़ते हुए उसके पीछे छिपे तथ्यों को बताते हैं। इसी कड़ी में पीएम मोदी का 5 अप्रैल रात 9 बजे 9 मिनट तक मोमबत्ती या दीया जलाने की बात कही गयी है, जिसको लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।आइये जानते हैं कि 5 अप्रैल रात 9 बजे 9 मिनट का क्या कनेक्शन है। 

बता दें कि हमारे देश के प्रधानमंत्री की हर घोषणा के पीछे एक वजह छिपी होती है। उन्होंने पूरी जनता को 5 अप्रैल को दीया जलाने के लिए कहा है। वो भी एक निर्धारित समय के लिए और उसी समय पर। उन्होंने साफ-साफ कहा है कि 5 अप्रैल को, 9 बजे और 9 मिनट के लिए यह दीया जलाना है। अब इस बात का मतलब ज्योतिषविदों ने अपने तरह से समझाया है। ज्योतिषविदों के अनुसार आइए जानते हैं कि मोदी जी ने 5 अप्रैल को दीया जलाने के लिए क्यों कहा है ?

ज्योतिषाचार्यों का  कहना है कि 9 नंबर मंगल ग्रह का होता है। यानी कि मंगल मजबूत करने के लिए और मन की शक्ति बनाए रखने के लिए यह समय सबसे अच्छा है। ऊपर से यह दीया 9 मिनट के लिए ही जला कर रखना है।  वहीं  5 तारीख को मंगल ग्रह सिंह राशि में प्रवेश करेंगे यानी कि सूर्य में और सूर्य का सीधा मतलब होता है रौशनी। यानी की इस दिन आपके चन्द्रमा को मजबूत करने के लिए सबसे अच्छा दिन है। बतादें कि चन्द्रमा से मन की शक्ति बढ़ती है।

वहीं ज्योतिषविदों का कहना है कि अब इतने पावन दिन पर आपको कुछ सावधानियां भी बरतनी होंगी। जिससे आपको और आपके परिवार को इसका पूरा लाभ मिलें।

अगर आप दीया जला रहीं है तो मंत्र का जाप भी करें। उनका कहना है कि जब रौशनी और ध्वनि का मिलान होता है तो लड़ने की ऊर्जा प्राप्त होती है। यह आपको वातावरण में फैली बीमारी से बचाएगा।

इलोक्ट्रॉनिक लाइट का इस्तेमाल न करें क्योंकि इससे राहु का असर तेज होता है।

हो सके तो आप सरसों के तेल का ही दीप जलाएं।

अगर नारियल तेल का दीप है तो उसमें कपूर मिलाए।

अगर आप कैंडल जला रही है तो उसमें ज्वार भी डालें।

ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि एस्ट्रोलॉजी को रेमेडी, साइंटिफिक और प्रिडिक्टिंग स्टडी भी कहा जाता है। मोदी जी के चुने हुए 5 अप्रैल का दिन और 9 बजे का टाइम इसलिए चुना है क्योंकि यह समय आपको इस महामारी से लड़ने का शक्ति देगा। सारे ग्रहों को मजबूत करने के लिए आप भी शक्ति की रौशनी 5 अप्रैल को 9 बजे और 9 मिनट के लिए यह दीया जलाए।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top