राज्यों से

कोरोना अपडेट: corona वॉरियर्स के साथ अगर ऐसी लापरवाही तो औरों के साथ क्या होगा, पढ़े ये खास रिपोर्ट वायरल ऑडियो के साथ

ब्यूरो रिपोर्ट। देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। वहीं लोगों को लॉकडाउन में जहां रियायतें दी गयी तो वहीं जिले के आलाधिकारियों को भी पूरे अलर्ट मोड पर रहने को कहा गया, लेकिन इसी बीच फ़िरोज़ाबाद में एक पुलिसकर्मी की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई, जिसके बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग पर सिपाही का कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट अपने आप में कई तरह के सवाल खड़ा करने लगा। फिरोजाबाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में उस रिपोर्ट के आ जाने के बाद हड़कंप मच गया तो वहीं उस सिपाही का वीडियो और ऑडियो दोनों ही वायरल होने लगा है। अब आप ही उसको सुनकर खुद फैसला कीजिये कि क्या उस सिपाही का खुद से जांच करवाना गलत था। अगर उसने अपनी जांच नहीं करवाई होती  कितने लोग उसके द्वारा संक्रमित हो सकते थे।

आपको बता दें कि सिपाही को अपनी कोरोना की जांच करवाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा , जिसका वीडियो और सिपाही और उसके अधिकारी से बातचीत का ऑडियो वायरल हो रहा है, जो कहीं ना कहीं प्रसासन पर बड़े सवाल खड़े करती है। सुनिए ऑडियो :

मामला थाना शिकोहाबाद का है , जहां एक सिपाही मजदूरों के घर वापसी के कार्य मे लगा हुआ था उसे खांसी और सांस लेने में जब दिक्कत हुई तो उसने अपने थाना प्रभारी से कहा ,  जब कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई तो थकहार कर वह खुद अस्पताल गया और अपनी जांच करने कहा | डॉक्टरों ने थर्मल स्क्रीनिंग में नॉर्मल टेम्प्रेचर देखकर सिपाही को घर जाने को कहा मगर सिपाही ने डॉक्टरों की एक ना सुनी और वो अपना कोरोना की जांच के लिए अड़ गया। जिसके बाद सिपाही जांच कराई गयी और रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव निकला।

वहीं इस खबर के बाद पुलिस विभाग और स्वास्थ विभाग में हड़कम्प मच गया। इस बाबत जब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी से पूछा गया तो सीएमएस ने बताया कि अस्पताल में सीएमओ आफिस से कोड आता है तब यहाँ जांच होती है, अगर कोई विभागीय व्यक्ति की जांच होती है तो उसके सीनियर एक लेटर देते है जिसपर कोड मंगवाया जाता है तब उसकी जांच होती है बिना कोड के जांच नही की जाती है।

तो सुना आपने कैसे सिपाही की जिंदगी से खिलवाड़ करने में लगे हैं ये लोग अगर सिपाही भी इनकी बात मानकर बैठ जाता तो सोचिये कितने और लोग संक्रमित हो जाते। वो तो सिपाही की समझदारी थी कि उसने अपने से ही अड़ कर अपनी जांच करवा लिया वरना तो आगे क्या होता इस बात का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। लेकिन इतनी लापरवाही और बेपरवाही प्रशासन द्वारा किया जाना इनको सवालों के घेरे में कहीं ना कहीं खड़ा करता नजर आ रहा है।

Most Popular

To Top