वाराणसी। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कोविड कमांड सेंटर में कोविड कार्यों में तैनात जनपद प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग एवं अन्य संबन्धित विभागों के अधिकारियों से साथ बैठक किया। डीएम ने सर्विलान्स टीमों द्वारा शहर की जनसंख्या के अनुपात में सर्दी, बुखार एवं खांसी (आईएलआई), सांस लेने में तकलीफ (सारी) एवं कोमोर्विड मरीजों यथा डायबिटीज़, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, कैंसर इत्यादि की खोजी गयी संख्या पर गहरी नाराजगी व्यक्त किया।

उन्होने निर्देशित किया कि घर-घर संपर्क कर ऐसे रोगियों को खोजने की व्यवस्था को और सुदृढ़ किया जाए और आवश्यकतानुसार सर्विलान्स टीम के साथ-साथ टीम के सदयों की भी संख्या बढ़ाई जाए। जिला कार्यक्रम अधिकारी आईसीडीएस को ऐसे मरीजों को खोजने का अलग से लक्ष्य आवंटित किया जाए ताकि इस विभाग के कार्यकर्ताओं का भी अलग से मूल्यांकन किया जा सके। जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व को निर्देशित किया कि कोविड कमांड सेंटर में 20 और डाटा एंट्री ऑपरेटर रखे जाएं और विभिन्न विभागों में कार्यरत डाटा एंट्री ओपरेटरों की सेवाएँ ली जाएं।

जिलाधिकारी ने अपने निर्देशन में विशेष व्यवस्था के तहत 9 अगस्त रविवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र शिवपुर, भेलूपुर और काशी विद्यापीठ में प्रातः 10 बजे से प्रिंट एवं इलैक्ट्रोनिक मीडिया के प्रतिनिधियों/पत्रकार गण हेतु कोविड-19 जांच की सुविधा उपलब्ध कराई है, जहां मेडिकल टीम स्वयं उपस्थित रहेगी और पल्स ऑक्सीमीटर के द्वारा ऑक्सीज़न सेचूरेशन, थर्मल स्कैनिंग द्वारा बुखार की जांच की जाएगी और दवाएं भी दी जाएंगी। जिलाधिकारी ने सभी कार्यालयों के अध्यक्षों तथा व्यापार मंडलों को आगामी 10 अगस्त को अपने कर्मचारियों एवं सदस्यों की सूची देने को कहा तथा सूची के अनुसार उसी दिन कोविड कमांड सेंटर से आईवर्मेक्टिन दवा प्राप्त कर सभी को खिलाने का निर्देश दिया है।

कोरोना अपडेट: वाराणसी में कोविड के बढ़ते संक्रमण को लेकर DM सख्त, माहततो को दिया ये दिशानिर्देश
To Top