वाराणसी। कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने हेतु आज कमिश्नरी स्थित कार्यालय में कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित सभी अपर एवं उप मुख्य चिकित्सा अधिकारियों संग बैठक की। इस बैठक में डीएम भी शामिल रहें। अधिकारियों संग बैठक में  कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने निर्देशित करते हुए कहा कि रोजाना प्रातः 8 बजे तक सिगरा स्थित शहीद उद्यान के पास स्मार्ट सिटी लिमिटेड द्वारा संचालित काशी इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में बनाए गए “एकीकृत कोविड कंट्रोल सेंटर” में उपस्थित होकर अपने कार्यों को संपादित करेंगे।  इस कोविड कंट्रोल सेंटर में एंबुलेंस की उपलब्धता सुनिश्चित कराकर पॉजिटिव कोरोना मरीजों के संबंध में कंट्रोल रूम में प्राप्त होने वाले सूचना के अनुसार उनको आवश्यकतानुसार अस्पतालों में शिफ्टिंग की कार्रवाई सुनिश्चित कराई जाए।

कमिश्नर ने सरकारी व प्राइवेट लैब से हो रहे सैंपल कलेक्शन के संबंध में निर्देशित करते हुए कहा कि संबंधित व्यक्तियों का पहचान पत्र व प्रपत्र पर उस व्यक्ति की डिटेल सूचना भरा जाए। ताकि सैंपल रिपोर्ट आने पर पॉजिटिव मरीजों से संपर्क करने में किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने सेम्पल रिपोर्ट आने के बाद पॉजिटिव कोरोना मरीजों को प्रत्येक दशा में अगले 24 घंटे के अंदर होम आइसोलेशन अथवा कोविड अस्पतालों में शिफ्ट करने की कार्यवाही हर हालत में सुनिश्चित किए जाने का निर्देश दिया।

कोविड कार्य में लगाए गए सभी एंबुलेंस एकीकृत कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर में उपलब्ध रहेंगे तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय के प्रशासनिक अधिकारी यहां से कोविड मरीजों को अस्पतालों में शिफ्टिंग का कार्य सुनिश्चित कराएंगे। इसके अलावा मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय के प्रशासनिक अधिकारी कोरोना संक्रमित मरीज की मृत्यु के पश्चात नगर निगम के भेलूपुर जोन के जोनल अधिकारी से समन्वय कर डेड बॉडी का निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार कार्यवाही सुनिश्चित कराएंगे। कमिश्नर ने 5 से 15 जुलाई तक जनपद में चलाए गए विशेष सर्विलांस अभियान में खांसी, बुखार एवं सांस लेने में तकलीफ आदि लक्षणों के चिन्हित किए गए लोगों का शत-प्रतिशत सैंपलिग यथाशीघ्र कराए जाने का निर्देश दिया।

वहीं जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने निर्देशित करते हुए कहा कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी अपने-अपने स्वास्थ्य केंद्र के कोविड कार्य के लिए नोडल अधिकारी होंगे। इन प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों के नेतृत्व में सिंपलिग, कांट्रैक्ट ट्रेसिंग, कोरोना पॉजिटिव मरीजों का होम आइसोलेशन व कोविड अस्पतालों में शिफ्टिंग का कार्य कराया जाएगा। उन्होंने निर्देशित किया कि सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारी पॉजिटिव मरीज के निकट सम्पर्कियो, मृतक कोरोना मरीज के घर के व उनके संपर्क के व्यक्तियों, 5 से 15 तारीख तक जनपद में चलाए गए विशेष सर्विलांस अभियान में खांसी, बुखार एवं सांस लेने में तकलीफ आदि लक्षणों के चिन्हित किए गए लोगों का अभियान चलाकर शत-प्रतिशत सैंपलिग यथाशीघ्र कराये।

शहरी स्वास्थ्य केंद्र पर 70 तथा ग्रामीण क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्रों पर कम से कम 100 सैंपल कलेक्शन प्रतिदिन कराए जाने का निर्देश देते हुए कहां कि सामुदायिक अथवा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का सेम्प्लीग जिस दिन शून्य होगा, उस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी का उस दिन का वेतन अदेय होगा। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिया कि कांट्रैक्ट ट्रेसिंग का कार्य पॉजिटिव कोरोना मरीज मिलने पर उसी दिन सूची तैयार कर लिया जाए तथा उसका आईडी जनरेट करते हुए तत्काल सैंपलिग का कार्य कराया जाए। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

कोरोना अपडेट: वाराणसी में covid-19 के बढ़ते रफ्तार पर कमिश्नर सख्त, बैठक कर अधिकारियों को दिए ये दिशानिर्देश
To Top