अपना प्रदेश

कोरोना अपडेट: BHU IIT का नया अविष्कार, कोरोना से लड़ने में होगा सहायक

वाराणसी। देश में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। लोग अपनी सुरक्षा के लिए पूरा इंतज़ाम कर रहे हैं। लेकिन हमारी रोजमर्रा की कुछ चीजे ऐसी हैं जिनका इस्तेमाल हम रोजाना ही करते हैं। हालांकि अभी लॉकडाउन के चलते लोग घरों में हैं लेकिन जो हमारे लिए बाहर हैं,हमारी सुरक्षा के लिए अस्पतालों आदि में अपनी ड्यूटी कर रहे हैं उनका क्या? उन्हीं लोगों को ध्यान में रखते हुए बीएचयू आईआईटी ने एक अविष्कार किया है जिससे  छोटी छोटी चीजें भी सेनिटाइज हो जाएंगी।

बता दें कि कोरोना के बढ़ते प्रभाव के बीच बीएचयू ने एक मशीन है। ये मशीन उन लोगों के सुरक्षा को देखते हुए बनाया है जो इमरजेंसी सेवा में लगे हुए हैं जैसे कि कर्मचारियों, डॉक्टर और अधिकारी। दरअसल इस मशीन का उपयोग बेल्ट, घड़ी, पर्स, चाभी इत्यादि सामग्री को सेनिटाइज करने के लिए बनाया गया है। लॉक डाउन के बीच इमरजेंसी सेवा से जुड़े लोग घर आने के बाद नहाकर कपड़े धुल लेते हैं लेकिन छोटी-छोटी चीजे नहीं धुल पाते  इस कारण संक्रमण का खतरा बना रहता है। इसके लिए बीएचयू आईआईटी के साथ मिलकर काम करने वाले गौरव ने एक माइक्रोवेव की तरह एक मशीन बनाई है। जिसमे अल्ट्रा वॉयलेट रेस से वायरस का खात्मा का दावा किया है।

मशीन इजाद करने वाले गौरव ने बताया कि इस मशीन को बनाने में केवल दो से तीन दिन लगा है।  यह अल्ट्रावायलेट किरणों से कोरोना के वायरस को मार देगी। यह मशीन सी कैटोगरी की अल्ट्रावायलेट किरणे छोड़ती है जो आम इंसान के साथ-साथ कीटाणु और वायरस के लिए खतरनाक होती है। कोई भी वायरस इसमें 10 से 15 मिनट तक जिंदा नही रह सकता। इस मशीन में एक पंखा भी लगा है जो वायरस को रोटेट करके किरणों के नजदीक लाने का काम करता है। मशीन में अल्ट्रावायलेट रेज के लिए 2 लाइट लगीं हैं। साथ ही इसमें टेम्प्रेचर और सिलेक्टर के माध्यम इसमें सेटिंग की जा सकती है।

वहीं बीएचयू आईआईटी के प्रोफ़ेसर डॉ पी के मिश्रा ने बताया कि मालवीय उधमिता संवर्धन केंद्र से मिलकर गौरव ने एक मशीन बनाई है जिससे यह छोटी-छोटी चीजें सैनिटाइज हो जाएंगे। मशीन अल्ट्रावायलेट रेस की पद्धति पर काम करती है जो सी कैटेगरी की रेज का निर्माण करती है और वायरस को खत्म करने में कारगर साबित है।

बीएचयू आईआईटी ने अब इसके लिए तैयारी करनी शुरू कर दी है और इसे बड़े पैमाने पर मार्केट में लाने के लिए पहल की जा रही है। यह कम लागत में इजाद  किया हुआ एक बढ़िया मशीन है जिसे डॉक्टर, पुलिस विभाग, सफाई विभाग अपने कर्मचारियों को इस संक्रमण के खतरे से बचाने में मददगार साबित होंगे। निश्चित ही यदि या मशीन कारगर साबित है तो कोरोना वायरस के बढ़ते कदम को रोकने के लिए और इमरजेंसी सेवा में लगे हुए लोगों के लिए यह एक अच्छी खबर है जिससे वह संक्रमण से पूरी तरीके से बचने में सफलता हासिल कर सकेंगे।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top