अपना प्रदेश

कोरोना अपडेट: लॉकडाउन के चलते इस बैंक में आज नहीं खुल सकता है खाता

वाराणसी। यूं तो आपने कई बैंकों के बारे में सुना होगा लेकिन क्या आपने किसी ऐसे बैंक के बारे में सुना है जिसमें पैसे नहीं बल्कि राम नाम की पूंजी लोग जमा करते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही बैंक के बारे में बताने जा रहे हैं जो पैसा नहीं बल्कि भक्त की भक्ति रूपी राम नाम की पूंजी को जमा करता है। 

बता दें कि वाराणसी के विश्वनाथ गली में एक ऐसा बैंक है जो राम नाम लिखे गए कागजातों को जमा करता है। इस बैंक का नाम राम रमापति बैंक है। इस बैंक को बने हुए आज पूरे 93 साल हो गए हैं। इस बैंक में अब तक अरबों की संख्या में राम नाम लिखे हुए कागजात इक्कठ्ठे हो गए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस बैंक में बाकायदा कर्मचारी भी नियुक्त हैं। जो उपभोक्ताओं को खाता खोलवाने से लेकर अन्य प्रक्रियाओं को पूरा करते हैं। बैंक में उपभोक्ताओं के लिए फॉर्म भी भरा जाता है जिससे इस बैंक में राम भक्त को प्रवेश मिलती है। फार्म में पूरे नियम लिखे गए है, जिसमें रामभक्त के नाम और पता के साथ ही व्यक्ति के राम नाम के कर्ज का कारण भरना पड़ता है और साथ में अपनी मन्नत भी लिखनी होती है।

हालांकि इस बैंक से कर्ज भी दिया जाता है और ये कर्ज सवा लाख जय श्री राम नाम का कर्ज होता है जिसे उपभोक्ता यानी कि राम भक्त को नियम के अनुसार इस कर्ज को भरना पड़ता है। इसके लिए बैंक भक्त को राम बुक से लेकर कलम तक मुहैया कराता है। इस बुक को ब्रह्म मुहूर्त में बिना मास-मदिरा के सेवन के साथ ही भरना होता है।ऐसा करने से इस राम नाम के कर्ज को पूरा कर इस बैंक में वापस जमा करने से ब्याज के रूप में उसकी मनोकामना पूरी हो जाती है वहीं इस बैंक में हर साल राम नवमी को राम भक्त अपना खाता खुलवाने आते हैं लेकिन इस साल कोरोना के कारण ये बैंक बंद जरूर है मगर इसकी आस्था और भक्तों में इसका विश्वास आज भी अडिग है।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top