अपना प्रदेश

चेतगंज की नक्कटैया हुई सम्पन्न, चंद्रयान और कश्मीर 370 का स्वांग रहा आकर्षण का केंद्र

वाराणसी। रात से शुरू होकर सुबह तक चलने वाली चेतगंज की विश्वप्रसिद्ध नक्कटैया संपन्न हो गया। जैसे ही लक्ष्मण ने सूपर्णखा की नाक काटी, वैसे ही लोगों द्वारा  हर-हर महादेव, जयश्रीराम के उद्घोष से पूरा क्षेत्र गूंज उठा। शंखनाद करती नक्कटैया इस बार भी अपनी परम्परा का निर्वाह करते हुए कश्मीर विधानसभा भवन पर तिरंगा फहराया तो महिला फाइटर विंग की नारी सशक्तिकरण की झांकी, कश्मीर से अनुच्छेद 370 का स्वांग भी नजर आया। मेले में राज्यमंत्री नीलकण्ठ तिवारी के अलावा कई अधिकारी शामिल थे। 

नक्कटैया में ज्यादातर कश्मीर घाटी में सेना के जवानों और उग्रवाद पर समर्पित रहा लाग, विमान। वहीं कई लाग-विमान त्रेता, गंगा, द्वापर व प्लास्टिक से आजादी को सजाया तो तरह-तरह के मुखौटों से भरी झांकियों ने लोगों को लुभाया। लाग-विमानों की शोभायात्रा का परम्परागत शुभारंभ रात्रि करीब 12:30 बजे चेतगंज थाने के सामने नारियल फोड़कर कि गया। मलदहिया से पिशाचमोचन, लहुराबीर, रामकटोरा, चाउरछटवा, हबीबपुरा होते हुए पूरे चेतगंज की सड़कें-गलियां रोशनी से जगमगाई और इस माहौल में ठेठ बनारसीपन नजर आया।

blankनक्कटैय देखने के लिए गली-मुहल्लों के अलावा छतों, बारजों पर नक्कटैया प्रेमियों क भीड़ रही। नक्कटैया में शामिल लाग-विमान मलदहिया से कबाड़ी मार्केट, पिशाच मोचन होते हुए चेतगंज थाने पर पहुंचा, जहां परम्परागत उद्घाटन होने के बाद लहुराबीर से अजय होटल, वंदना होटल होते हुए हनुमान मंदिर, फिर मंदिर से बागबरियार सिंह, चेतगंज हनुमान मंदिर से सीधे बेनियाबाग गेट तक पहुंचा। गेट से वापस मुड़कर चेतगंज से हबीबपुरा होते हुए मुंशी मथुरा रोड से सिटी एसपी कार्यालय के पास मुड़कर रथ के निकट पहुंच समाप्त हुआ। तकरीबन 50 झांकियों के अलावा ऊंट, घोड़े और देवी मुखौटा पहने तलवारबाजी करते कलाकारों से मेला क्षेत्र रात भर जागा। नक्कटैया के लाग-विमान में प्लास्टिक से आजादी, विधानसभा पर तिरंगा फहराया, कश्मीर में अनुच्छेद 370 का विमान आकर्षक का केन्द्र बना रहा।

इसके अलावा माता के स्वरूपों की झांकी, प्रभु श्रीराम चन्द्र, भरत, शत्रुघ्न, के अलावा, चन्द्रयान नारी सशक्तिकरण, कश्मीर में उग्रवाद, लंका दहन, कश्मीर घाटी के मसले पर समर्पित रहा ज्यादातर लाग विमान। नक्कटैया में कश्मीर घाटी में सेना के जिस तरह उग्रवाद को मुंहतोड़ जवाब दिए और सरकार उग्रवाद को रोकने के लिए किस तरह से सेना के जवानों को तैनात किया ज्यादातर लाग विमान नजर आया। मेले में सड़क का किनारा हो या फिर डिवाइडर सभी जगह दुकानें लगी रही। गुब्बारा, खिलौना, मुखौटा, बाजा, रेवड़ी, चूड़ा की खरीदारी खूब हुई।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top