अपना प्रदेश

GHAZIPUR: अब CHC कहेंगे ‘आयुष्मान भव:’, सुदूर गांव के लोगों को भी मिलेगी ये सुविधाएं 

गाजीपुर। प्रधानमंत्री मोदी की महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान, जिसके अंतर्गत करोड़ों लोगों को 5 लाख तक कि निःशुल्क स्वास्थ्य सुविधाएं दी जा रही है। गांव तक इस सुविधा को तत्काल पहुंचाने के लिए जनपद के 13 सीएचसी को आयुष्मान योजना से जोड़ने की कवायद शुरू हो गई है, ताकि सुदूर ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लाभार्थियों को आसानी से तत्काल प्राथमिक उपचार मिल सके। दरअसल आयुष्मान योजना के एक वर्ष पूर्ण होने के बाद अब शासन द्वारा योजना का धीरे-धीरे विस्तार दिया जा रहा है।

वहीं लाभार्थी की हालत गंभीर होने पर प्राथमिकता उपचार कर एंबुलेंस के माध्यम से, संबद्ध निजी अस्पताल रेफर भी किया जाएगा, ताकि स्वास्थ्य सुविधाओं में मिलने वाली देरी को कम किया जा सके। शासन से मिले निर्देश के बाद सीएचसी की सुविधा बढ़ाने के साथ सभी खामियों को भी दूर करने की प्रक्रिया जारी हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले पात्र परिवारों को उपचार के लिए इधर-उधर न भटकना पड़े। वर्तमान समय में योजना के पात्र मरीजों को जानकारी न होने पर उन्हें सीएमओ कार्यालय और जिला अस्पतालों का चक्कर काटना पड़ता है। वहीं तत्काल उपचार न मिलने की स्थिति में तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

इस मामले में आयुष्मान नोडल अधिकारी डॉ जितेंद्र दुबे ने बताया कि सीएचसी को जोड़ने के पीछे सरकार की मंशा है गांव तक आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों को बेहतर स्वास्थ सुविधा मिलें । क्योंकि आयुष्मान योजना से जो अस्पताल इनप्लांड थे वह मुख्यालय पर थे। वहीं गांव के आयुष्मान लाभार्थी को मुख्यालय आने में समय लगता था। यदि सीएचसी लेवल पर अस्पतालों को आयुष्मान योजना से जोड़ा जाएगा तो आसानी से उन्हें स्वास्थ्य सुविधा मिल सकेगी। उनकी स्थिति गंभीर होने पर उन्हें एंबुलेंस के माध्यम से जिला मुख्यालय भेजा जायेगा, ताकि उनको बेहतर इलाज मिले। अभी तक गाजीपुर में 17 निजी और 3 सरकारी अस्पताल थे। वहीं 11 नए सीएचसी के जुड़ने के बाद सरकारी अस्पतालों की संख्या 14 हो जाएगी।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top