अपना प्रदेश

UP का कृषि उत्पादन देश के कुल उत्पादन का 21 प्रतिशत, बोले शाही

जानकारी देते कृषि मंत्री

वाराणसी।कृषि विभाग मंडल की समीक्षा करने पहुंचे सूबे के केंद्रीय मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने सोमवार को पत्रकार वार्ता की। इस दौरान उन्होंने केन्द्र सरकार और प्रदेश की योगी सरकार की उपलब्धियां गिनवायी, जिसके अंतर्गत किसानों को जो लाभ पहुंचाए गए हैं इस पर चर्चा करते हुए उत्तर प्रदेश में कृषि उत्पादन को देश के कुल उत्पादन का 21 प्रतिशत बताया।

कैबीनेट मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि उत्तर प्रदेश कृषि विभाग ने पिछले ढाई साल के भीतर प्रदेश के किसानों के सहयोग से जो रिकॉर्ड उत्पादन 2018-19 में किया है, वो 604 लाख मैट्रिक टन है जोकि भारत के खाद्यान्न भंडारण में लगभग 21 प्रतिशत है। इस कार्य के लिए हमने समय पर किसानों को बीज, खाद और पानी उपलब्ध कराया जिसके परिणाम स्वरूप देश का उत्पादन भी बढ़ा है और उत्पादकता भी बढ़ी है। सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि हमने इस छोटी सी अवधि के भीतर 2016- 17 में 5 लाख 47 हजार किसानों को बीज वितरण का कार्यक्रम चलता था और इस बार हमने 8 लाख 18 हजार 260 कुंटल बीज किसानों को अनुदान पर दिए और उसका यह परिणाम रहा है कि इस वर्ष किसान की लागत घटी है और उत्पादकता बढ़ी है।

सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि हमलोगों ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के भीतर देश में एक रिकॉर्ड बनाया है और उत्तर प्रदेश के किसानों की पहली किस्त चुनाव के पहले 110 लाख की धनराशि किसानों के खाते में पहुंची है। अबतक पूरे देश में 1 लाख 57 हजार किसानों के खाते में अनुदान राशि भेज दी है, जिससे किसानों को प्रदेश के भीतर सुविधा हुई है। कृषि यंत्रों की दृष्टि से भी हमने पिछले साल 80% अनुदान और लगभग 130 करोड़ रुपए का अनुदान किसानों को उपलब्ध कराए थे इस साल भी वह योजना चलाई जा रही है और किसानों को इन-सीटू कार्यक्रम के अंतर्गत भी 80 प्रतिशत अनुदान के साथ कृषि यंत्रों को प्रदत करा रहे हैं। शेष 50 प्रतिशत अनुदान पर दे रहे हैं और 171 करोड़ रुपए हमने कृषि यंत्रों पर खर्च करने का लक्ष्य रखा है।

सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि फार्मेसी की दृष्टिकोण से हमने सोलर पंप वाराणसी मंडल को इस वर्ष 426 सोलर पंप दिए हैं और 240 किसानों के ड्राफ्ट जमा कर दिए गए हैं। लगभग 100 किसानों के यहां सोलर पंप स्थापित हो चुके है और बाकी किसानों को जब ड्राफ्ट आ जाएंगे तो सोलर पंप मुहैया करा दिया जाएगा। कृषि यंत्रों के लिए भी 10 अगस्त तक की तारीख बढ़ाई गई है। 10 अगस्त तक 50 प्रतिशत अनुदान वाले कृषि यंत्रों को भी किसान यदि लेना चाहेगा तो वह अपनी टोकन मनी जमा करके ले सकता है। शाही ने कहा कि इन योजनाओं के अंतर्गत हमारी यह कोशिश है कि देश के किसानों तक सुविधाएं पहुंचाई जाए और राज्य के भीतर इस छोटी अवधि में एक्सीलेंस सेंटर पर भी काम शुरू किया था, जिसमें बस्ती और कन्नौज का एक्सीलेंस सेंटर बनाने का काम शुरू कर दिया गया है और इस महीने में कानपुर में चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय के भीतर और नैनी सुवार्ट्ज के भीतर हमारे दो एक्सीलेंस सेंटर की शुरुआत होने वाली है।

Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

Most Popular

To Top