अपना प्रदेशराजनीतिवाराणसीशिक्षा

पुलिस की लाठी से बचने के लिए छात्रों ने किया अनोखा विरोध प्रदर्शन

वाराणसी। महामना की बगिया कहे जाने वाले काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में एक बार फिर छात्र और विश्वविद्यालय प्रशासन आमने-सामने हो गये हैं। इसको लेकर छात्रों ने शुक्रवार को लंका स्थित सिंह द्वार महामना के प्रतिरूप के रूप में गांधी जी के तीन बंदरों वाले उक्ति को चरितार्थ करते हुए एक अनोखा विरोध प्रदर्शन किया।

ज्ञातव्य है कि बीएचयू के बिड़ला छात्रावास और लाल बहादुर शास्त्री छात्रावास के छात्रों में बीते गुरूवार को मारपीट हो गई, जिसके बाद लाल बहादुर शास्त्री के छात्र धरने पर बैठ गए। वहीं दूसरी ओर धरने पर बैठे छात्रों के खिलाफ पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। साथ ही हॉस्टल में भी सघन चेकिंग अभियान चलाया गया। इसको लेकर ही छात्रों ने आज शांतिपूर्ण ढंग से अपना विरोध प्रदर्शन किया।

छात्रों का कहना है कि जिस प्रकार से पुलिस प्रशासन ने छात्रों पर बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज किया, इसको लेकर ही हमने यह महामना जी का प्रतिकात्मक रूप धारण किया है कि वह अब महामना जी पर तो लाठीचार्ज नहीं करेंगें। हमारी मांग है कि उन दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो जिन्होंने छात्रों पर बर्बरतापूर्ण तरीके से लाठीचार्ज किया है। इसिलिए हमने गांधी जी के तीन बंदरों को लेकर भी दिए गए उक्ति को चरितार्थ करते हुए बुरा मत देखों, बुरा मत सुनो और बुरा मत कहो लिखे स्लोगन को भी लगाया है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button