अपना प्रदेश

डबल मर्डर से थर्राया बनारस, हिस्ट्रीशीटर समेत 2 की मौत 1 घायल

वाराणसी। शुक्रवार की सुबह अपराधियों ने पुलिस को खुलेआम चुनौती दे दिया है। लबे सड़क बदमाशों ने 2 लोगों को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया है। वहीं इस गोलीबारी में 1 व्यक्ति गंभीर रूप से घायल भी हुआ है जिसे निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इस पूरी घटना के बाद पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठना शुरू हो गया है। दिनदहाड़े हुई इस घटना के बाद पूरे शहर में दहशत का माहौल है।

क्या है मामला
जानकारी के मुताबिक जैतपुरा थानाक्षेत्र के चौकाघाट काली मंदिर के समीप बाइक सवार दो बदमाशों ने कैट थाने के हिस्ट्रीशीटर और आपराधिक घटनाओं में संलिप्त अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस को लक्ष्य कर गोली चला दी। इस गोलीबारी में पास में खड़े बाल्मीकि नामक एक ट्राली चालक की भी मौत हुई है। वहीं एक व्यक्ति दीपक गंभीर रूप से घायल हुआ है, जिसे अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। घटना के बाद पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है। इस डबल मर्डर की वारदात से पूरे शहर में दहशत का माहौल है। घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश मौके से आसानी से फरार हो गए हैं।

घटना का सीसीटीवी बरामद
इस घटना में पुलिस को एक सीसीटीवी भी बरामद हुआ है, जिसमें बेखौफ अपराधी बाइक सवार अभिषेक को निशाना बनाते हुए ताबड़तोड़ फायरिंग करते हैं। गोली लगने से अभिषेक और चालक दीपक बाइक से गिर जाते हैं। उसके बाद भी अपराधी नीचे उतरकर अभिषेक को कई गोलियां मारते हैं और आराम से मौके से भागने में सफल हो जाते हैं। इस घटना के बाद से ही लोगों में दहशत का माहौल है। वही मृतक बाल्मीकि के परिजनों ने अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए प्रदर्शन भी किया है।

क्या कहते हैं एडीजी
घटनाक्रम की जानकारी देते हुए एडीजी जोन ब्रज भूषण ने बताया कि मृतक अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस अपने साथी दीपक के साथ बाइक पर जा रहा था। उसी दौरान एक बाइक पर दो बदमाश उनका पीछा करते हुए उन्हें गोलियां मारते हैं। इस गोलीबारी में स्थानीय निवासी वाल्मीकि की भी मौत हो जाती है। दीपक गोली लगने से गंभीर रूप से घायल है और उसे अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। उन्होंने बताया कि मृतक अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस कैंट थाने का हिस्ट्रीशीटर है और अपराधिक घटनाओं में संलिप्त था। उसके फोन और व्हाट्सएप की चैटिंग से जानकारी हुई है कि यह अवैध असलहों और नारकोटिक्स के धंधे में भी सक्रिय था। पूरे मामले की छानबीन की जा रही है। उन्होंने बताया कि अभिषेक पहले भी जेल जा चुका था।

कौन हैं अभिषेक उर्फ प्रिंस
इस गोलीबारी में मृतक अभिषेक सिंह उर्फ प्रिंस अवैध असलहों की तस्करी किया करता था। 2015-16 में प्रिंस, अभिषेक सिंह उर्फ हनी, विवेक कट्टा और अमित टाटा एक गिरोह में काम किया करते थे। उसके बाद आपसी विवाद के बाद रामनगर में सुलह करने के लिए इकट्ठा हुए। इसमें विवेक कट्टा प्रिंस और दो अन्य लोग शामिल थे। इस पंचायत में विवेक कट्टा को पेट में गोली मारी गई। इस घटना के बाद यह सभी अलग हो गए। 2017 में भभुआ निवासी पिंकू अंसारी की अभिषेक उर्फ प्रिंस के घर में गोली मारकर हत्या कर दी जाती है। जिसमें प्रिंस को ही आरोपी बनाकर जेल भेज दिया गया था।

पुलिस पर सवाल
दिनदहाड़े इस दुःसाहसिक घटना के बाद पुलिस की कार्यशैली पर निशान लगने शुरू हो गए हैं। राजकीय कोटा भरने के लिए पुलिस चालान करने में व्यस्त हैं, तो अपराधी अपराध करने में मस्त। जिस तरह से बीच सड़क ताबड़तोड़ गोलियां मारकर अभिषेक की हत्या कर दी गई इससे यह साबित होता है कि अपराधियों के अंदर किसी भी तरह से पुलिस का खौफ नहीं है। हत्या की यह वारदात वाराणसी पुलिस के ऊपर एक सवालिया निशान छोड़ गई है।

डबल मर्डर से थर्राया बनारस, हिस्ट्रीशीटर समेत 2 की मौत 1 घायल
To Top