77 साल के उम्र में ‘दादा साहेब फाल्के अवार्ड’ से सम्मानित हुए महानायक

0
51

रिपोर्ट: अंकित सिंह 

डेस्क रिपोर्ट। सदी के महानायक फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन अपने अभिनय से दर्शकों के बीच काफी लोकप्रिय है। अपने अभिनय के बदौलत इन्होंने अपनी एक अलग हीं पहचान फिल्मी दुनिया में बनाए हैं। उनको कई पुरस्कार से सम्मानित भी किया जा चुका है। इस पुरस्कार के क्रम में साल के आखिरी महीने के आखिरी सप्ताह के रविवार का दिन बेहद महत्वपूर्ण रहा है। देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें फिल्म इंडस्ट्री के क्षेत्र में सबसे बड़े सम्मान ‘दादा साहेब फाल्के अवार्ड’ से सम्मानित किया।

77 साल के हो चुके महानायक अमिताभ बच्चन ने यह पुरस्कार विनम्रता से स्वीकार करते हुए कहा कि यह जो प्यार मुझे देश की जनता से मिलता रहा है और आज मैं आप सभी के सामने खड़ा हूं। इसमें मेरे माता-पिता और ईश्वर का आशीर्वाद है। राष्ट्रपति भवन में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया, जिसमेें उनकी पत्नी जया बच्चन और बेटा अभिषेक बच्चन मौजूद रहे। इसके अलावा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित लोग भी मौजूद रहे। 23 दिसंबर को 66 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार का आयोजन किया गया था, लेकिन उस समय तबियत सही न होने के चलते वह उपस्थ्ति नहीं हो पाए थे।

‘दादा साहेब फाल्के अवार्ड’ पाने के बाद बिग बी ने कहा कि मुझे अपने जीवन में आगे भी बहुत कुछ करना है। अभी बहुत ज्यादा काम करना है। आगे उन्होंने कहा कि जब मुझे यह पुरस्कार मिलने की जानकारी हुई। उस समय मेरे मन में यह विचार आया कि कहीं मुझे यह पुरस्कार देने के पीछे मुझे फिल्मी दुनिया से रिटायर लेने का इशारा तो नहीं किया जा रहा है। यह बात जब उन्होंने मजाक के लहजे में किया तो सभी लोग हंसने लगे। ‘दादा साहेब फाल्के अवार्ड’ की शुरुआत 1969 में हुआ जो आज 50 साल पूरा कर चुका है और इतना ही समय मुझे भी फिल्म इंडस्ट्री में करते हुए हो गया है।

अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत इन्होंने ‘सात हिंदुस्तानी’ फिल्म के साथ शुरु किया। जीवन के उत्तार चढ़ावा के साथ इन्होंने दीवार,डॉन,बाग़बान,जंजीर,सहित अनगिनित फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवाया। अब तक से जीवन के इस सफर में इनको चार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार,15 फिल्मफेयर और 2015 में  पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है।

दादा साहेब फाल्के अवार्ड भारत सरकार की ओर से हर साल आयोजित किया जाता है। यह सम्मान भारतीय सिनेमा में उस व्यक्ति विशेष को दिया जाता है,जो आजीवन इस क्षेत्र में अपना योगदान दिए हैं। इस पुरस्कार से सम्मानित लोगों को दस लाख रुपए और स्वर्ण कमल दिया जाता है। पहला अवार्ड पाने वाली अभिनेत्री देविका रानी थी,जिनको 17 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के समय दिया गया था।