सहारा समूह की सभी समस्याओं का 2020 में हो जाएगा समाधान : सुब्रत रॉय

0
37

ब्यूरो रिपोर्ट। की सालों से सहारा समूह समस्याओं से जूझ रहा है, वहीं सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय ने इस साल सभी समस्याओं का समाधान होने की उम्मीद जताई है। उन्होंने सभी सहारा निवेशकों को यह भी आश्वासन दिया है कि उन्हें उनकी निवेशित राशि पूरे ब्याज के साथ मिलेगी और एक दिन की देरी के लिए भी अतिरिक्त ब्याज दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि दो बड़े विदेशी निवेशकों से सहारा के रियल एस्टेट और सिटी डेवलपमेंट जैसे बड़े प्रोजेक्ट्स के लिए निवेश पर सार्थक बात हुई है। इसके साथ ही उन्होंने सेबी में जमा किए गए लगभग 22,000 करोड़ रूपए भी इस साल वापस आने की उम्मीद जताई है।

बता दें कि सहारा समूह एक फरवरी को अपना 42वें स्थापना दिवस के अवसर पर निवेशकों को सुब्रत रॉय ने पत्र लिखकर कहा कि “समूह हमेशा समय पर भुगतान और सेवाओं में उत्कृष्टता की अपनी परंपरा को बरकरार रखता है, लेकिन पिछले सात वर्षों के दौरान भुगतान में देरी हुई है, जिसके लिए ‘कुछ अवांछनीय परिस्थितियां’ जिम्मेदार हैं।पूंजी बाजार नियामक सेबी के साथ विवाद पर रॉय ने कहा कि संपत्तियों की बिक्री या गिरवी रखने से या ज्वांइट वेंचर से मिली पूरी राशि को सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाई गई रोक के कारण सेबी-सहारा रिफंड खाते में जमा कर दिया गया है।

सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय ने कहा कि सहारा के पास जमीनें हैं, लेकिन वहां इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए धन की कमी है, जिस कारण उन पर टाउनशिप या कॉलोनियां विकसित करना मुश्किल हो गया है। सेबी-सहारा खाते में बड़ी रकम जमा होने की वजह से आवासीय इकाई के खरीदारों द्वारा किए गए अग्रिम भुगतान का धन भी इसी खाते में है। हालांकि, उन्होंने कहा कि इन समस्याओं को जल्द ही हल कर दिया जाएगा क्योंकि दो बड़े विदेशी निवेशक हमारी रियल एस्टेट और सिटी डेवलपमेंट व्यवसायों में हमारे साथ आ रहे हैं। “सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों को ध्यान में रखते हुए, कुछ समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए हैं, जो इस वर्ष, यानी 2020 के भीतर सहारा की समस्याओं को हल कर देंगे।