प्याज पर ‘मस्त’ के बयान पर अफजाल ने किया पलटवार, कहा-मस्ती में कुछ भी…

0
69

रिपोर्ट- राहुल पांडेय

गाजीपुर। जहां एक तरफ भारत के ज्यादातर राज्य में प्याज की बढ़ती कीमत से लोगों के खाने का स्वाद बिगड़ा हुआ है और प्याज 100 से 130 रुपए किलो तक बिक रही है। प्याज की बढ़ती कीमतों ने भाजपा सरकार को महंगाई नियंत्रण के मोर्चे पर फजीहत किए हुए हैं। वहीं महंगाई के मुद्दे पर सरकार का बचाव करते हुए बलिया सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने मोदी सरकार की मुसीबतें और बढ़ा दी है। सदन में उन्होंने कहा कि मोहम्मदाबाद में 25 रुपए किलो प्याज बिक रही है। बलिया सांसद के बयान पर गाजीपुर अफजाल अंसारी ने कहा की मस्त जी मस्ती में थे 125 रुपए का 100 बोलना भूल गए। बलिया सांसद के इस बयान से भाजपा बैकफुट पर है। क्योंकि मोहम्मदाबाद मंडी में भी प्याज 100 रुपये किलो बिक रही है।

देश में प्याज के दाम आसमान छू रहे हैं। वहीं बलिया के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त का संसद में प्याज पर दिया बयान चर्चा में आया तो इसकी जांच पड़ताल नेशनल विजन की टीम ने की। पड़तताल के दौरान प्याज का दाम 25 रुपये किलो की जगह 95 रुपये से 120 रुपये किलो मिला। इसी के साथ ही सांसद का दावा गलत साबित हुआ। यहीं नहीं मुहम्मदाबाद समेत गाजीपुर के दुकानदार सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त के बयान से असहमत दिखे। पूरे देश की तरह यहां पर भी प्याज का भाव 100 रुपये किलो दिखा।

बता दें कि गुरुवार को बलिया सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने संसद में कहा कि दुनिया की सबसे उपजाऊ जमीन गंगा यमुना का मैदान है। जाकर देखिये वहां के किसान प्याज कैसे पैदा करते हैं। नासिक के किसान उस तरह के प्याज नहीं पैदा करते। आज भी एक-एक किसान के घर में सैकड़ों-सैकड़ों बोरे प्याज रखे हुए हैं। उन्होंने कहा कि मेरे इलाके में 20 से 25 रुपये किलो प्याज बिक रहा हैं। ये प्याज की राजनीति कब तक करोगे। चलो मेरे साथ मोहम्मदाबाद में और जिसको जितनी प्याज चाहिए। उसको मैं 25 रुपये किलों के हिसाब से दिलाता हूं।

बलिया सांसद के इस बयान पर गाजीपुर के सांसद अफजाल अंसारी ने कहा कि, मैं खुद उनके संसदीय क्षेत्र का एक मतदाता हूं। मैं उनका बड़ा सम्मान करता वो सीनियर हैं। पता नहीं उस दिन किस मूड में थे कि देश में सबसे बड़े मंदिर में खड़े होकर, महंगाई पर सरकार का बचाव करते हुए ऐसा बोल दिए। उन्होंने कहा कि मैं खुद मोहम्दाबाद का रहने वाला हूं। मोहम्मदाबाद की सब्जी मंडी मेरे पूर्वजों की जमीन पर लगती है। इसके साथ ही मैं एक किसान भी हूं।

अफजाल अंसारी ने बताया कि अभी प्याज का बेहन डाला गया है। रोपनी भी शुरू नहीं हुई है। नई प्याज अभी बाजार में उपलब्ध नहीं है। वहीं पुरानी प्याज बाजार में 125 से 130 रुपये किलो तक बिक रही है। उन्होंने कहा कि लगता है मस्त जी मस्ती के मूड में थे, जिसमें वो एक सौ वाली बात भूल गए और 25 वाली बात सिर्फ याद रह गई। वह मस्त है जब वह अपनी धुन में बोलते हैं तो उनसे कौन पूछने की हिम्मत करे उनकी पार्टी के नेता भी उनसे पूछने की हिम्मत नहीं करते।