ग्रहण के बाद श्रद्धालुओं ने लगायी आस्था की डुबकी

0
24

रिपोर्ट- अनुज जायसवाल

वाराणसी। सूर्य ग्रहण काल समाप्त होने के बाद वाराणसी के घाटों पर भक्तों और श्रद्धालुओं के स्नान दान करने का सिलसिला दोपहर बाद तक बढ़ता चला गया। काशी के सभी घाटों पर श्रद्धालुओं ने गंगा में डुबकी लगाकर बाबा विश्वनाथ का दर्शन पूजन किया।

काशी के पंडों के अनुसार ऐसी मान्यता है कि सूर्य ग्रहण के बाद गंगा में स्नान करने से पुण्य की प्राप्ती होती है। ग्रहण लगने के बाद लोग ईश्वर का सुमिरण करते हैं जिससे दु:ख का निवारण होता है। इसके बाद गंगा घाटों पर स्नान ध्यान करने के साथ ही दान पुण्य करने की भी मान्यता है।

गरीब और भिखारियों को तिल और गुड़ की पअ्टी का दान करने से सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। सूर्य ग्रहण से पहले ही काशी के घाटों पर श्रद्धालुओं की भीड़ लगनी शुरू हो गई थी। लोगों ने भगवान का ध्यान किया। इसी के साथ सूर्य ग्रहण खत्म होने के साथ ही लोगों ने गंगा में स्नान किया और बाबा विश्वनाथ का आशीर्वाद प्राप्त किया।