ब्यूरो रिपोर्ट। बीते दिनों नेपाली युवक द्वारा 15 सौ रुपए लेकर सिर मुंडवाने का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। विहिसे के कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार इस मामले को खत्म करने की मांग उठ रही है।  अभी कुछ दिन पूर्व ही विहिसे के सचिव और कार्यकर्ताओं ने लखनऊ में सीएम योगी को इस बाबत ज्ञापन सौंपने के लिए गए थे। वहीं आज फिर इसी संबंध में देवरिया में विहिसे के सचिव और कार्यकर्ताओं ने अपने पांच सूत्रीय मांगों को लेकर सीएम योगी के नाम से ज्ञापन दिया है।

बता दें कि नेपाल के पीएम ओली द्वारा दिए विवादित बयान के बाद से ही विहिसे अध्यक्ष अरुण पाठक ने नेपाली मंदिर पर नेपाल के पीएम के विरोध में पोस्टर चस्पा किया था। जिसके बाद ही एक नेपाली युवक के सिर मुंडवाने का वीडियो अरुण पाठक ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया। वहीं भेलूपुर थाने में इसके विरूद्ध मामला दर्ज हुआ और इसमें छह लोगों की गिरफ्तारी भी हुई। वहीं अरुण पाठक तभी से फरार चल रहे हैं।हालांकि बीच में अरुण पाठक ने अपना वीडियो मैसेज शेयर करते हुए कहा है कि वो फरार नहीं हैं बल्कि साधना में लीन हैं और सावन के ख़त्म होते वो खुद पुलिस स्टेशन आएंगे।

कार्यकर्ताओं ने अपने मांग में कहा है कि भेलूपुर पुलिस बेवजह विश्व हिंदू सेना के कई कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को हिरासत में ले लिया, जबकि आरोपित नेपाली युवक धर्मेंद्र सिंह ने अपने अपराध को मान लिया है। बावजूद इसके सीईओ भेलूपुर अमृत सिंह के निर्देश पर स्थानीय पुलिस सभी कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न कर रही है। साथ ही अध्यक्ष को फरार करने के साथ ही अपराधी घोषित कर दिया है। इतना ही नहीं कार्यकर्ताओं ने आगे कहा है कि इस मामले में पुलिस का एक और अमानवीय चेहरा तब सामने आया जब कई पुलिसकर्मी विहिसे अध्यक्ष के घर में घुसकर उनकी पत्नी मनीषा पाठक सहित अन्य परिजनों के साथ अभद्र व्यवहार भी किया और घर के सामानों को भी इधर-उधर कर दिया। जब घर में कुछ हाथ नहीं लगा तो अरुण पाठक के भाई सुनील पाठक को पुलिस जबरन उठा ले गई। जबकि उन्होंने साफ कर दिया कि इस मामले से उनका कोई लेना-देना नहीं है।

वहीं परिजनों की सुरक्षा के लिए पीड़िता मनीषा पाठक ने पुलिस के उच्च अधिकारियों को प्रार्थना पत्र भी लिखा लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। उक्त मामले का प्रमुख आरोपी धर्मेंद्र सिंह जब सामने आ गया है तो विहिसे के कार्यकर्ताओं को तत्काल निर्दोष साबित कर उनके विरुद्ध लगे सभी अपराधिक धाराओं को हटवा कर मुक्त किया जाए। साथ ही उनके खिलाफ निष्पक्ष जांच करवाकर कार्रवाई की जाए। विश्व हिंदू सेना का राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण पाठक का मुकदमा वापस नहीं लिया गया और  भेलूपुर सीईओ को निलंबित नहीं किया गया है तो हमारे कार्यकर्ता हर जगह धरना प्रदर्शन और चक्काजाम किया जायेगा।

वि.हि.से. के अध्यक्ष पर से मुकदमा वापसी के लिए दिया गया पांच सूत्रीय ज्ञापन, CM से की ये मांग
To Top