मऊ हिंसा में 19 नामजदों की गिरफ्तारी, उपद्रवियों पर हो सकती एनएसए की कार्रवाई

0
26

मऊ। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शनों का दौर जारी है। देश के विभिन्न हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन भी देखने को मिल रहे हैं। सोमवार को यूपी के जनपद मऊ में मुसलमानों की भीड़ ने प्रदर्शन के बाद हिंसा और आगजनी भी की थी, जिसमें दक्षिण टोला थाने में जबरदस्त तोड़-फोड़ भी की गई थी। साथ ही थाने के बाउंड्री वाल को तोड़कर कंप्यूटर कक्ष में भी तहस-नहस किया था। उपद्रवियों ने एक दर्जन से ज्यादा मोटरसाइकिलें भी फूंक दी थी, जिसके बाद इस मामले में अब तक 19 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। वहीं प्रशासन कुछ लोगों पर एनएसए की कार्यवाही करने पर भी विचार कर रही है। बता दें कि बुधवार को भी जिले में धारा 144 लागू है। जिले के डीएम एसपी और सभी पुलिस अधिकारी विभिन्न क्षेत्रों में गश्त कर जायजा ले रहे हैं।

मामले में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक अनुराग आर्य ने बताया कि मामले में अब तक कुल नामजद 19 लोगों की गिरफ्तारियां हुई हैं। हिंसा की घटनाओं की वीडियो और फोटो में जिन लोगों की पहचान हुई है। उन्हीं को गिरफ्तार किया गया है। 12 लोगों से पूछताछ कर जांच की जा रही है। वीडियो सर्विलेंस टीम को लगाया गया है जो वीडियो और फोटो से हिंसा की घटनाओं में लिप्त लोगों की पहचान कर रहे हैं।  पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दो थानाक्षेत्रों में 3 मुकदमे आईपीसी 7 सीएल एक्ट और ‘डैमेज टु प्रॉपर्टी एक्ट’ के तहत दर्ज किए गए हैं। हम विचार कर रहे हैं और आवश्यकता पड़ने पर कुछ लोगों पर एनएसए की कार्रवाई भी की जाएगी। जनपद में धारा 144 लागू है और किसी को भी किसी प्रकार के प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी जाएगी।

वहीं शहर में गश्त पर निकले डीएम ने बताया कि हालात अब नियंत्रण में है। आम जनता का सहयोग मिल रहा है। जांच के लिए 19 लोगों की गिरफ्तारियां की गई हैं, जिनसे पूछताछ की जा रही है, कल से विद्यालय खोलने पर विचार किया जा रहा है। नगर पालिका परिषद मऊनाथ भंजन के चेयरमैन तैय्यब पालकी ने कहा कि आज नगर में दुकानें खुली हुई हैं। लोग अफवाहों पर ध्यान न दें और अपने काम काज में लग जाएं। जो घटना हुई वह बहुत गलत और निंदनीय है, हिंसा का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। सोमवार को हुई घटना में जो लोग दोषी पाए जाएं उनकी पहचान कर उनपर कार्रवाई हो।  जबकि जो निर्दोष लोग पकड़े गए हैं तो उनकी जांच करके उनको छोड़ दिया जाए। अपने नगर को हिंसा से बचाने की जिम्मेदारी हम सब की है।